जेईई एडवांस्ड के 100 टाॅपरों को कानपुर आईआईटी देगा ब्राइट माइंड्स स्कॉलरशिप

जेईई एडवांस्ड के 100 टाॅपरों को कानपुर आईआईटी देगा ब्राइट माइंड्स स्कॉलरशिप
जेईई एडवांस्ड के 100 टाॅपरों को कानपुर आईआईटी देगा ब्राइट माइंड्स स्कॉलरशिप


कानपुर, 09 जून (हि.स.)। देश भर के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (आईआईटी) के लिए आयोजित परीक्षा जेईई एडवांस्ड का परीक्षा परिणाम रविवार को घोषित हो गया। इस अवसर पर आईआईटी कानपुर ने जेईई एडवांस्ड 2024 के सफल विद्यार्थियों को बधाई देते हुए अपनी प्रतिष्ठित ब्राइट माइंड्स स्कॉलरशिप की घोषणा की। इसके तहत 100 टॉपरों को तीन लाख रुपये सालाना स्कॉलरशिप दी जाएगी जो पाठ्यक्रम पूरी होने तक जारी रहेगी। हालांकि यह स्कॉलरशिप 2021 में शुरू की गई थी और आगे भी जारी रखने की शनिवार को घोषणा की गई।

संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) एडवांस्ड 2024 में वेद लाहोटी ने प्रथम स्थान हासिल किया है और महिला उम्मीदवार द्विजा धर्मेश कुमार पटेल ने सातवीं रैंक हासिल की। इसके साथ ही मान्या जैन कानपुर जोन से शीर्ष प्रदर्शनकर्ता के रूप में उभरी हैं, जिन्होंने अखिल भारतीय रैंक (एआईआर) 75 हासिल की है। इसके अलावा शुभम नायर (एआईआर 131), गर्व चौधा (एआईआर 163), श्रेष्ठ गुप्ता (एआईआर 191) और सिद्धार्थ अग्रवाल (एआईआर 306) हासिल की है। महिला उम्मीदवारों में श्रेष्ठ गुप्ता ने उल्लेखनीय रूप से एआईआर 191 हासिल की है। इस पर आईआईटी कानपुर ने सभी सफल अभ्यर्थियों को बधाई दी और टॉप 100 अभ्यर्थियों को अपनी प्रतिष्ठित ब्राइट माइंड्स स्कॉलरशिप की घोषणा की।

जोन से सफल हुए 4926 अभ्यर्थी

आईआईटी कानपुर द्वारा समन्वित कानपुर जोन से पंजीकृत 21,634 उम्मीदवारों में से 21,169 परीक्षा में शामिल हुए और 4,926 ने सफलतापूर्वक उत्तीर्णता प्राप्त की। यह जोन के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है, जो छात्रों के बीच तैयारी और समर्पण के उच्च मानकों को दर्शाता है।आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो. मनिंद्र अग्रवाल ने शनिवार को बताया कि आईआईटी कानपुर की ब्राइट माइंड्स स्कॉलरशिप देश के सबसे प्रतिभाशाली दिमागों को समर्थन और पोषण देने की हमारी प्रतिबद्धता है, जो यह सुनिश्चित करती है कि वित्तीय बाधाएं आपकी शैक्षणिक यात्रा में बाधा न बनें। इसके तहत प्रत्येक पात्र छात्र को तीन लाख रुपये की वार्षिक छात्रवृत्ति मिलेगी, जो उनके स्नातक कार्यक्रम के दौरान उनके खर्चों को कवर करेगी। छात्रवृत्ति यूजी कार्यक्रम के सभी चार वर्षों के लिए प्रदान की जाएगी, बशर्ते छात्र न्यूनतम संचयी प्रदर्शन सूचकांक (सीपीआई) 8.0 बनाए रखें। यह छात्रवृत्ति पूर्व छात्र लोकवीर कपूर के पहल 2021 में शुरू की गई थी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि किसी भी मेधावी छात्र को अपनी शैक्षणिक गतिविधियों में वित्तीय बाधाओं का सामना न करना पड़े। इस वर्ष भी टॉप 100 छात्रों को यह छात्रवृत्ति उसके पाठ्यक्रम पूरा होने तक दी जाएगी।

हिन्दुस्थान समाचार/अजय/सियाराम

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story