कोरोना काल में वायरल बुखार से भी रहें सावधान, भारी पड़ सकती है अनदेखी, तुरंत डॉक्‍टर से करें संपर्क :  डॉ आर के सिंह

कोरोना काल में वायरल बुखार से भी रहें सावधान, भारी पड़ सकती है अनदेखी, तुरंत डॉक्‍टर से करें संपर्क : डॉ आर के सिंह

वाराणसी। इन दिनों बुखार, जुकाम, गले में जकड़न और पूरे शरीर में एठन है, जिसमें जाहिर तौर पर किसी को भी कोविड-19 की आशंका होना स्वभाविक है, लेकिन इस समय मौसम बदल रहा है। डॉ आर के सिंह ने बताया कि दिन में गर्मी और सुबह-शाम मौसम ठंडा हो जाता है। यह मौसम वायरल बुखार के लिए भी बड़ा माकूल होता है और मौसम का संधिकाल कहे जाने वाले इस मौसम में बुखार-जुकाम होना आम बात है। 

एम्प्लॉईस स्टेट इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन (ईएसआईसी) हॉस्पिटल में कोविड के नोडल अधिकारी व वरिष्ठ परामर्शदाता डॉ आर के सिंह ने कहा कि केवल बुखार आने भर से यह मानकर तनाव न लें कि कोरोना ने घेर लिया है। बुखार आने पर चिकित्सक से परामर्श जरूर लें और चिकित्सक की सलाह पर कोरोना जांच कराएं।  

उन्होंने बताया कि बुखार या ऐसी समस्या आने पर डाक्सीसाइक्लिन 100 mg  सुबह शाम, पैरासिटामाल व अन्य दवायें डाक्टर के परामर्श से लेना शुरू कर दें। कोविड के मामले बढ़ने से अस्पतालों का जो हाल हो गया, उसमें जरूरी है कि जब तक बहुत जरूरी न हो, अस्पताल जाने से बचें और प्रयास करें कि चिकित्सक से टेलीफोन पर ही परामर्श मिल जाए। चिकित्सक के परामर्श पर मेडिकल स्टोर से दवा लें या फिर दवा भी ऑनलाइन मंगा लें तो ज्यादा बेहतर है। 

उन्होने कहा कि सामान्य परिस्थितियों में भी घर से बाहर निकलें तो मास्क जरूर लगाएं और एक दूसरे से दो गज की दूरी बनाकर रखें। जुकाम या बुखार होने पर घर में भी मास्क लगाकर रहें और प्रयास करें कि परिवार के अन्य सदस्यों से अलग कमरे में रहें। केवल कोरोना संक्रमण ही सांस के जरिए नहीं फैलता, बल्कि वायरल भी सांस के जरिए फैलता है। इसलिए जरूरी है कि सामान्य वायरल होने पर भी पूरी सावधानी बरतें। मौजूदा परिस्थितियों में यह और भी जरूरी इसलिए हो जाता है कि कोविड के चलते ओपीडी सेवाएं बाधित चल रही हैं और अस्पतालों में जाना संक्रमण को बुलावा देने जैसा है।

डॉ आरके सिंह ने बताया कि इन दिनों हमें ज्यादा सयंमित रहने की जरूरत है। थोड़ी सी भी तकलीफ होने पर घरेलू उपचार शुरू कर दें। पीने के लिए गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें। दिन में एक बार भाप अवश्य लें। यह हमारे नाक, गले और यहां तक कि फेफड़ों को भी सैनिटाइज करने जैसा होता है। जुकाम या बुखार होने पर रोजाना तीन से चार बार तक भाप लें। खानपान का ध्यान रखें और घर के अंदर ही सही, नियमित रूप से व्यायाम करें। खासकर सांस से जुड़े व्यायाम जरूर करें।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिककरें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये यहां क्लिककरें।

Share this story