मुनाफाखोरी के आरोप में वाराणसी में मेडिकल स्टोर्स पर कार्रवाई

v
वाराणसी। वाराणसी पुलिस ने उन मेडिकल स्टोरों पर नकेल कसना शुरू कर दिया है, जो दवाइयों के लिए खरीदारों को और भारी डिमांड के चलते आक्सीमीटर जैसे महत्वपूर्ण उपकरणों पर ओवरचार्ज कर रहे हैं।

ओवरचाजिर्ंग वाली एम्बुलेंस सेवाएं भी पुलिस की गिरफ्त में आ रही हैं।

वाराणसी के पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश के अनुसार, पुलिस को दवाओं और चिकित्सा उपकरणों की अधिक कीमत पर बेचे जाने की सूचना मिली थी।

इंस्पेक्टर लंका, महेश पांडे ने एक स्थानीय मूल निवासी को एक मेडिकल स्टोर पर ऑक्सीमीटर खरीदने के लिए भेजा। एक ऑक्सीमीटर के लिए आदमी से 1,400 रुपये लिए गए, जो पैकिंग पर छपी अधिकतम खुदरा कीमत से बहुत अधिक था।

गणेश ने कहा कि दुकानदार द्वारा दी गई रसीद में केवल राशि का उल्लेख है जिसमें ऑक्सीमीटर, ब्रांड नाम, अधिकतम खुदरा मूल्य और अन्य विवरण नहीं है।

जब पुलिस टीम ने दुकान में प्रवेश किया और ऑक्सिमीटर का विवरण मांगना शुरू किया, तो दुकान मालिक एक संतोषजनक जवाब देने में विफल रहा जिसके बाद उसके खिलाफ मामला दर्ज किया गया।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) ने भी दुकान के मालिक के खिलाफ उचित कार्रवाई शुरू करने के लिए कहा।

इससे पहले शुक्रवार को, एक हैदर अली ने ट्रैफिक पुलिस को अपने हेल्पलाइन नंबर पर कबीर चौरा से भोजूबीर के लिए अपने मरीज को लाने के लिए एक एम्बुलेंस चालक द्वारा ओवरचार्ज किए जाने के बारे में बताया था।

त्वरित कार्रवाई करते हुए, यातायात निरीक्षक ने एम्बुलेंस चालक से संपर्क किया और अली से एक बड़ी राशि वसूलने का कारण पूछा।

पुलिस के हस्तक्षेप के बाद, एम्बुलेंस चालक ने अतिरिक्त राशि वापस कर दी।

इस बीच, अस्पतालों द्वारा होडिर्ंग, ब्लैकमाकिर्ंग, ओवरचाजिर्ंग की जांच के लिए गठित प्रवर्तन दल भी इस तरह की प्रथाओं को रोकने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं और लोगों को उचित मूल्य पर समय पर चिकित्सा सहायता प्राप्त करने में मदद कर रहे हैं।

--आईएएनएस

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये यहां क्लिक करें।

Share this story