शोध के क्षेत्र में विवि को रखी होगी अग्रणी भूमिका: आनंदी बेन पटेल



शोध के क्षेत्र में विवि को रखी होगी अग्रणी भूमिका: आनंदी बेन पटेल


शोध के क्षेत्र में विवि को रखी होगी अग्रणी भूमिका: आनंदी बेन पटेल


मेरठ, 19 मार्च (हि.स.)। प्रदेश की राज्यपाल और कुलाधिपति आनंदी बेन पटेल ने नैक मूल्यांकन में चौधरी चरण सिंह विवि को ए-प्लस प्लस ग्रेड मिलने पर रविवार को शिक्षकों, अधिकारियों, कर्मचारियों और छात्र-छात्राओं के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि विवि में अच्छे संसाधन उपलब्ध है। अब शोध के क्षेत्र में विवि को अग्रणी भूमिका निभानी होगी।

विश्वविद्यालय के अप्लाइड साइंस सभागार में राज्यपाल ने कहा कि अच्छे संसाधनों का उपयोग करते हुए विश्वविद्यालय को विश्वस्तरीय रैंकिंग में प्रतिभाग कर अपनी उत्कृष्टता को स्थापित करने का लक्ष्य रखना चाहिए। विश्वविद्यालय को शोध के क्षेत्र में अग्रणी भूमिका में रहना होगा तथा समाज के बीच उनकी समस्याओं एवं आवश्यकताओं को समझ कर समाजोत्थान केन्द्रित कार्य में भी संलग्न होना होगा। उन्होंने विश्वविद्यालय को मिले ए-प्लस प्लस ग्रेड पर बधाई देते हुए कहा कि इस पूरी प्रक्रिया एवं प्रयास पर विश्वविद्यालय को एक पुस्तक प्रकाशित करनी चाहिए, जिससे अन्य विश्वविद्यालय उसका अध्ययन कर अपने नैक सम्बन्धी कार्यों में गुणवत्ता ला सकें। इसके बाद राज्यपाल ने अटल सभागार में स्थित शौर्य गैलरी, कल्पना चावला स्टार्टअप एवं इन्क्यूवेशन सेन्टर एप्लाइड साइंस भवन स्थित सभागार का नाम भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री एवं भारत रत्न अटल बिहारी बाजपेयी के नाम पर करने के कार्य का लोकार्पण किया। इसके साथ तिलक पत्रकारिता एवं जनसंचार स्कूल के सुघोष स्टूडियो, योग विभाग में बने आनन्दम् एवं चैतन्यम् का लोकार्पण किया। इसके बाद वह कल्पना चावला स्टार्टअप एवं इन्क्यूबेशन सेन्टर पहुंची जहां, पर स्टार्टअप से जुड़े प्रोजक्ट का अवलोकन किया।

इसके बाद कुलाधिपति तिलक पत्रकारिता एवं जनसंचार स्कूल के नवनिर्मित स्टूडियो जिसका नाम महाभारत के पांडव पुत्र नकुल के शंख के नाम पर रखे गए सुघोष स्टूडियो पहुंची। यहां पर राज्यपाल का साक्षात्कार आयोजित हुआ। यह साक्षात्कार एमएजेएमसी द्वितीय वर्ष की छात्रा साक्षी शर्मा ने लिया। साक्षात्कार में अपना संदेश देते हुए उन्होंने कहा कि यह विश्वविद्यालय प्रदेश में आगे है, ऐसा मैं मानती हूं। यह विश्वविद्यालय देश में भी आगे, इसके बाद एशिया और विश्व में भी कीर्तिमान स्थापित करे। यह कार्य हमें चरणबद्ध तरीके से पूर्ण योजना के साथ करना होगा। मेरा विश्वास है कि आने वाले दस वर्षाे में यह विश्वविद्यालय दुनिया के श्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में शामिल होगा। यह साक्षात्कार यू-ट्यूब चैनल पर लाइव प्रसारित हुआ तथा इसके साथ-साथ विश्वविद्यालय से सम्बद्ध कई महाविद्यालयों के छात्र-छात्राएं, शिक्षक गूगल मीट के माध्यम से जुड़े रहे। विभाग के रेडियो स्टूडियो का भी कुलाधिपति ने अवलोकन किया। इसके बाद उन्होंने विश्वविद्यालय से सम्बद्ध राजकीय एवं एडेड महाविद्यालयों के प्राचार्यों के साथ बैठक की।

इस अवसर पर सांसद राजेंद्र अग्रवाल, कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला, प्रो. एनसी गौतम, प्रो. मृदुल गुप्ता, प्रो. संजीव शर्मा, प्रो. प्रशांत कुमार, मितेंद्र गुप्ता, कुलसचिव धीरेन्द्र कुमार, वित्त अधिकारी रमेशचंद्र, प्रो. अनिल मलिक, छात्र कल्याण अधिष्ठाता प्रो. भूपेन्द्र सिंह, कार्यवाहक कुलानुशासक डॉ. दुष्यंत चौहान आदि उपस्थित रहे।

हिन्दुस्थान समाचार/कुलदीप

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story