ग्रामीण पर्यटन को प्राथमिकता देने से स्थानीय अर्थव्यवस्था को मिलेगी गति : जयवीर सिंह

ग्रामीण पर्यटन को प्राथमिकता देने से स्थानीय अर्थव्यवस्था को मिलेगी गति : जयवीर सिंह
ग्रामीण पर्यटन को प्राथमिकता देने से स्थानीय अर्थव्यवस्था को मिलेगी गति : जयवीर सिंह


लखनऊ, 11 जून (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के पर्यटन और संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह ने बताया कि 'ग्रामीण पर्यटन को प्रोत्साहित करके हम न केवल स्थानीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा दे रहे हैं, बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों को भी आगे बढ़ा रहे हैं। आज हुए दो एमओयू इस बात के प्रमाण हैं।

उन्होंने बताया कि ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा देने से स्थानीय अर्थव्यवस्था को काफी बढ़ावा मिलेगा। आजीविका के अवसर मिलेंगे और विभिन्न प्रकार के पर्यटन अनुभवों की मेजबानी के लिए बुनियादी ढांचे में वृद्धि होगी। इन पहलों का उद्देश्य पूरे उत्तर प्रदेश में ग्रामीण समुदायों का उत्थान करते हुए पर्यटकों को ग्रामीण जीवन का प्रामाणिक अनुभव प्रदान करना है। इस उद्देश्य से, पर्यटन विकास के लिए 229 गांवों की पहचान पहले ही की जा चुकी है।

पर्यटन मंत्री ने बताया कि प्रदेश में ग्रामीण पर्यटन और आजीविका बढ़ाने की दिशा में मंगलवार को महत्वपूर्ण पहल की गई। लखनऊ में विपिनखंड गोमतीनगर स्थित पर्यटन भवन में दो समझौता ज्ञापनों (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए। पहला एमओयू उत्तर प्रदेश पर्यटन व राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के बीच हुआ। पर्यटन विभाग का प्रतिनिधित्व प्रमुख सचिव मुकेश कुमार मेश्राम और राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन का प्रतिनिधित्व मिशन निदेशक दीपा रंजन ने किया। इस पांच-वर्षीय समझौते का उद्देश्य स्थायी आजीविका विकास और वित्तीय सेवाओं तक बेहतर पहुंच के माध्यम से ग्रामीण समुदायों को सशक्त बनाते हुए पर्यटन को बढ़ावा देना और पर्यटन बुनियादी ढांचे का विकास करना है।

श्री सिंह ने बताया कि एमओयू के तहत पर्यटन विभाग चयनित गांवों में बुनियादी आवश्यकताओं को चिह्नित तथा सुविधाओं को विकसित करने, पर्यटन गतिविधियों के लिए समुदायों को संगठित करने,क्षमता निर्माण कार्यक्रमों का आयोजन करने और होमस्टे को बढ़ावा देने पर ध्यान केंद्रित करेगा। वह सोशल मीडिया प्रबंधन,सामग्री निर्माण और परिचय यात्राओं पर भी काम करेंगे। इस बीच, यूपीएसआरएलएम संभावित स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) की पहचान करेगा, समुदायों को संगठित करेगा और प्रशिक्षण कार्यक्रमों के माध्यम से एसएचजी सदस्यों की क्षमता का निर्माण करेगा। वे गांव की स्वच्छता का भी समर्थन करेंगे,सोशल मीडिया के माध्यम से पर्यटन गांवों को बढ़ावा देंगे,क्वज के साथ प्रासंगिक डेटा साझा करेंगे और आवश्यकतानुसार पर्यटन बुनियादी ढांचे को बनाए रखेंगे। गांवों में अल्प अवधि के कई प्रशिक्षण कार्यक्रमों का संचालन किया जा रहा है। इसमें होम स्टे मालिकों, स्वयं सहायता समूह के हितधारकों, टूरिस्ट गाइड आदि को प्रशिक्षित किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि दूसरे एमओयू पर यूपीएसआरएलएम और मान्यवर कांशीराम इंस्टीट्यूट ऑफ टूरिज्म मैनेजमेंट,पर्यटन विभाग,उत्तर प्रदेश सरकार के बीच हस्ताक्षर किए गए। इस साझेदारी का उद्देश्य राज्य में खाद्य सेवा उद्यमों को बढ़ावा देने के लिए एक स्थायी मॉडल विकसित करना है। यूपीएसआरएलएम संस्थान से क्षमता निर्माण सहित तकनीकी सहायता के साथ टिकाऊ खाद्य सेवा उद्यमों के प्रतिकृति मॉडल विकसित करेगा।

उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव, पर्यटन और संस्कृति, मुकेश कुमार मेश्राम ने कहा, यूपीएसआरएलएम और मान्यवर कांशीराम संस्थान के साथ हमारा सहयोग स्थायी पर्यटन और सामुदायिक सशक्तिकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। यह पहल सुविधाओं और बुनियादी ढांचे को बढ़ाएगी, जिससे पर्यटकों को एक विशेष अनुभव मिलेगा।

यूपीएसआरएलएम की मिशन निदेशक दीपा रंजन ने कहा,'यह साझेदारी ग्रामीण समुदायों को पर्यटन मूल्य श्रृंखला में एकीकृत करके सशक्त बनाएगी। यह गांवों में आर्थिक विकास और सतत विकास के नए अवसर पैदा करेगी।

पर्यटन विभाग की विशेष सचिव ईशा प्रिया ने कहा कि हम एक व्यापक पर्यटन रणनीति विकसित करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं जो सभी हितधारकों को लाभ पहुंचाए। पर्यटन विकास और ग्रामीण आजीविका वृद्धि के बीच तालमेल हमारे राज्य के समग्र विकास के लिए महत्वपूर्ण है।

हिन्दुस्थान समाचार/जितेन्द्र/राजेश

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story