पर्यावरण संकट को कम करने में वृक्षों की महती भूमिका : डॉ शेष नारायण मिश्र

पर्यावरण संकट को कम करने में वृक्षों की महती भूमिका : डॉ शेष नारायण मिश्र
पर्यावरण संकट को कम करने में वृक्षों की महती भूमिका : डॉ शेष नारायण मिश्र


प्रयागराज, 09 जून (हि.स.)। भारत विकास परिषद प्रयाग शाखा के बैनरतले सिविल लाइन स्थित एक होटल में 'पर्यावरण सुरक्षा में पेड़ों की भूमिका' विषय पर एक संगोष्ठी हुई। मुख्य अतिथि वन संरक्षक डॉ शेष नारायण मिश्र ने कहा कि पर्यावरण संकट से आज पूरी मानव जाति पर खतरा है और इस खतरे को कम करने में वृक्षों की महती भूमिका है।

उन्होंने कहा कि पेड़ के बहुत सारे लाभ हैं जिसे आम लोगों को बताने की आवश्यकता है। मुहल्लों में पेड़ की एक लाइन प्रदूषण को आधा कम कर देती है,वह चाहे वायु प्रदूषण हो या ध्वनि प्रदूषण या अन्य प्रदूषण हो। घरों के आसपास पेड़ लगाएं।

डॉ मिश्रा ने कहा कि विकास के कारण पेड़ों की लगातार कटाई हो रही है। इससे पर्यावरण को लगातार नुकसान हो रहा है। इसलिए सबसे अधिक आवश्यकता शहरों और कालोनियों में बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण के लिए लोगों को जागरूक करने की है। पेड़ों को लगाने के साथ-साथ उसे बचाना भी आवश्यक है। स्थान की उपलब्धता के आधार पर फलदार वृक्ष लगाएं।

वन संरक्षक डॉ मिश्र ने कहा कि आज वृक्ष लगाना सबसे बड़ा पुण्य का कार्य है। अधिकतर मामलों में सड़क चौड़ीकरण के दौरान पेड़ लगाने के लिए जगह ही नहीं छोड़ी जा रही है,जो दुर्भाग्यपूर्ण है। नगर विकास की योजना बनाने या विकास में वन विभाग की भी भूमिका सुनिश्चित किया जाना चाहिए। शहरों में वाटर रिचार्ज की भी जरूरत है।

भारत विकास परिषद प्रयाग शाखा की अध्यक्ष डॉ अल्पना अग्रवाल ने कहा कि भारतीय संस्कृति में पर्यावरण को लेकर जो सम्मान और प्रकृति के साथ लोगों का तादात्म्य सुनिश्चित किया गया था,वह धीरे-धीरे तिरोहित होता जा रहा है। जिसे पुनर्स्थापित करने की आवश्यकता है।

संगोष्ठी में डॉ उमेश प्रताप सिंह, सुभाष चंद्र मिश्रा, डॉ सुनील कांत मिश्रा, उमेश दत्त भट्ट, टी.पी. शुक्ला और दिनेश रस्तोगी ने भी अपने विचार व्यक्त किए। अतिथि परिचय प्रोफेसर सोनाली चतुर्वेदी ने किया। वरिष्ठ सीए डॉ नवीन चंद्र अग्रवाल तथा मुकेश अग्रवाल ने स्मृति चिन्ह प्रदान कर तथा शॉल ओढ़ाकर मुख्य अतिथि का परिषद की ओर से सम्मानित किया।

इस अवसर पर सचिव डॉ. विवेक भदोरिया ने पिछले वर्ष के कार्यक्रमों की वार्षिक आख्या प्रस्तुत की। शाखा के कोषाध्यक्ष डॉ सुनील कांत मिश्रा ने 2023-24 का आय व्यय पेश किया। इस दौरान संकल्प लिया गया कि भारत विकास परिषद प्रयाग शाखा लगभग 1000 पौधों का रोपण गांव में करेगी, जिसकी जिम्मेदारी सुभाष चंद्र मिश्र को दी गई।

कार्यक्रम का संचालन डॉ विवेक भदौरिया तथा धन्यवाद ज्ञापन इंजीनियर अशोक मित्तल ने किया। कार्यक्रम में जी के खरे, माया खरे, राजीव अग्रवाल, आलोक शाह, डॉ दीपक अग्रवाल, डॉ संघसेन सिंह, दिनेश रस्तोगी, अनुपमा मिश्रा, रमन सिंह, माधुरी सिंह सहित अनेक लोग उपस्थित थे।

हिन्दुस्थान समाचार/विद्या कान्त/राजेश

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story