ऑपरेशन कराने आई महिला की इलाज के दौरान मौत, परिजनों ने काटा हंगामा

ऑपरेशन कराने आई महिला की इलाज के दौरान मौत, परिजनों ने काटा हंगामा
ऑपरेशन कराने आई महिला की इलाज के दौरान मौत, परिजनों ने काटा हंगामा


ऑपरेशन कराने आई महिला की इलाज के दौरान मौत, परिजनों ने काटा हंगामा


ऑपरेशन कराने आई महिला की इलाज के दौरान मौत, परिजनों ने काटा हंगामा


ऑपरेशन कराने आई महिला की इलाज के दौरान मौत, परिजनों ने काटा हंगामा


ऑपरेशन कराने आई महिला की इलाज के दौरान मौत, परिजनों ने काटा हंगामा


अमेठी,03 अप्रैल (हि.स.)। जनपद मुख्यालय गौरीगंज में एक प्राइवेट नर्सिंग होम में बच्चेदानी का ऑपरेशन करवाने आई महिला को ओटी में ले जाने पर एनेस्थीसिया का इंजेक्शन देने के बाद मौत हो गई। इस घटना के बाद परिजनों ने जमकर हंगामा काटा। सीएमओ ने जांच के लिए डिप्टी सीएमओ सहित चार सदस्यीय टीम का किया गठन।

गौरतलब बात यह है कि यह निजी नर्सिंग होम जिला अस्पताल में तैनात डॉक्टर पीतांबर कनौजिया का है। घटना के बाद अस्पताल प्रशासन अस्पताल छोड़कर फरार है।

जनपद मुख्यालय गौरीगंज कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत उसरहन का पुरवा मजरे सराय हृदयशाह गांव की रहने वाली लगभग 30 वर्षीय महिला कंचन के बच्चेदानी में कुछ समस्या थी जिसको गौरीगंज के जामो रोड स्थित केयर हॉस्पिटल एंड ट्रामा सेंटर में दिखाया था। डॉक्टर ने कहा था कि इसका ऑपरेशन करना पड़ेगा और समस्या का समाधान हो जाएगा। इसके बाद आज महिला के पति और सासू मां बच्चेदानी का ऑपरेशन करवाने के लिए कंचन को लेकर केया अस्पताल पहुंचे। जब डॉक्टर कंचन को लेकर ऑपरेशन थिएटर में गए तब वह बिल्कुल फिट थी। कहीं किसी भी प्रकार की कोई उसको दिक्कत नहीं महसूस हो रही थी वह हंस बोल रही थी।

परिजनों ने बताया कि अंदर ले जाने के बाद जैसे ही उसको एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगाया गया, उसके थोड़ी देर बाद ही उसकी मौत हो गई। तत्काल निजी अस्पताल वालों ने अपनी गाड़ी से कंचन को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे। जहां पर उसको भर्ती करने से मना कर दिया गया क्योंकि जिला अस्पताल वालों को यह पता चल चुका था कि कंचन की मृत्यु हो चुकी है। इसके बाद नर्सिंग होम वालों ने वापस अपने नर्सिंग होम के पास पहुंचकर कंचन की डेड बॉडी को परिजनों को हवाले करते हुए कहा कि इसको लेकर घर जाओ। इसके बाद नाराज परिजनों ने रोते हुए जमकर हंगामा काटा।

नर्सिंग होम प्रशासन पर लापरवाही से इलाज करने और कंचन को मार डालने का गंभीर आरोप लगाया। परिजन सड़क पर लेट गए हालांकि मौके पर पहुंची स्थानीय कोतवाली की पुलिस ने परिजनों को सड़क से हटकर लाश को मोर्चरी भेजा और आवश्यक विधिक कार्यवाही में जुट गई।

इधर, मामले का संज्ञान लेते हुए तत्काल जिले के मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ.अंशुमान सिंह ने अपर चिकित्सकाधिकारी डॉ.राम प्रसाद, उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. पीके उपाध्याय जिला अस्पताल के गाइनेकोलॉजिस्ट डॉ विजय गुप्ता और सीएचसी गौरीगंज के एनेस्थेटिक डॉक्टर अभय गोयल के नेतृत्व में चार सदस्य टीम गठित करते हुए शीघ्र जांच कर आख्या तलब की है।

हिन्दुस्थान समाचार/लोकेश त्रिपाठी/राजेश

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story