योग एवं ध्यान केंद्र में प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति से होगा उपचार



योग एवं ध्यान केंद्र में प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति से होगा उपचार


योग एवं ध्यान केंद्र में प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति से होगा उपचार


उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने किसान पथ पर स्थित योग व ध्यान केन्द्र का किया उद्घाटन

लखनऊ, 19 मार्च (हि.स.)। लखनऊ के इंदिरा डैम ड्रीम वैली किसान पथ के निकट मुक्ताकाशी योग एवं ध्यान केंद्र का शुभारंभ आज यानि रविवार को हुआ। उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने केन्द्र नाम पट्टिका का अनावरण अखण्ड ज्योति प्रज्ज्वलित कर किया। केन्द्र में परम्परागत और प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति के से उपचार भी किया जाएगा।

गोमती तट के निकट खुले इस केन्द्र को योग और ध्यान के लिए उपयुक्त बताया। अच्छे स्वस्थ्य को जीवन का आधार बताते हुए उपमुख्यमंत्री ने कहा कि प्राकृतिक वातावरण में लगभग तीन सौ पुराने विशाल वटवृक्ष के क्षेत्र में खुला यह योग व ध्यान केन्द्र प्रशंसनीय है। इसे खोलने वाले पर्यावरण प्रेमी राजेश राय पहले भी गोमती नदी पर वृत्तचित्र बनाकर प्रकृति प्रेम जाहिर कर चुके हैं। उम्मीद है इस केन्द्र का लाभ ज्यादा से ज्यादा लोगों को मिल सकेगा।

इस मौके पर अतिथियों का स्वागत करते हुए केन्द्र के परिकल्पक राजेश राय ने कहा कि केन्द्र में शिव का त्रिशूल और हनुमानजी की गदा को प्रतीक स्वरूप पुरातन वृटवृक्ष के नीचे स्थापित किया गया है। गोमती नदी के तट के निकट और वनौषधियों के प्राकृतिक भण्डार के निकट खुले इस केन्द्र में परम्परागत चिकित्सा और पारम्परिक चिकित्सा की सुविधाएं भी प्रारम्भ की जाएंगी।

स्वस्ति वाचन से प्रारम्भ हुए और शरद मिश्र के संचालन में चले इस समारोह की अध्यक्षता कर रहे सूचना आयुक्त नरेन्द्र कुमार श्रीवास्तव नें इस पहल को सार्थक बताते हुए कहा कि योग-ध्यान और पारंपरिक पद्धतियों से ज्यादा लाभ प्राप्त कर उपचार कम खर्च में किया जा सकता है।

बाबा महादेव ने अखण्ड ज्योति प्रज्ज्वलित करने के महत्व पर प्रकाश डाला। वृंदावन के पूज्य आलोककृष्ण गोस्वामी जी ने योग को व्यापक शब्द बताते हुए कर्मयोग, ज्ञान योग और भक्ति योग की चर्चा की। अंत में अतिथियों का आभार व्यक्त करते हुए पूर्व मंत्री और पूर्व सांसद कुसुम राय ने कहा कि योग-घ्यान और भारतीय चिकित्सा पद्धतियो का महत्व हम कोरोना काल में जान चुके हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/शैलेंद्र

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story