मंडल में 55.88 करोड़ की लागत से बनेगा आधुनिक दुग्ध प्लांट

-बांदा के नरैनी रोड पर 20 हजार लीटर क्षमता का आधुनिक दुग्ध प्लांट लगाने को मिली हरी झंडी

हमीरपुर, 09 जून (हि.स.)। मंडल में दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए शासन ने 55.88 करोड़ की लागत से बांदा नरैनी रोड पर 20 हजार लीटर क्षमता का आधुनिक दुग्ध प्लांट लगाए जाने के लिए हरी झंडी दे दी है। इसमें चारों जनपदों चित्रकूट, बांदा, महोबा व हमीरपुर की कुल 800 दुग्ध समितियां (गांव) जोड़े जाएंगे। इससे 50 हजार से अधिक किसानों को रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे।

जिले में वर्ष 2011 में श्वेत क्रांति कार्यक्रम के तहत दुग्ध उत्पादन सहकारी समिति लि. की स्थापना की गई थी। स्थापना के समय मंडल में 800 व जिले के सातों ब्लॉकों में कुल 178 समितियां इससे जुड़ी थीं। उस समय समितियों में प्रतिदिन करीब पांच हजार लीटर दूध का उत्पादन होता था। धीरे-धीरे गांव में दूध मुहैया कराने व उत्पादों को दूध का भुगतान किए जाने में लापरवाही बरतने से समितियों की संख्या कम होती चली गई। दूध उत्पादन कम होने व ट्रांसपोर्ट खर्च बढ़ने के कारण जिले की करीब 132 समितियां ठप हो गईं। मौजूदा समय में मात्र 36 समितियों से प्रतिदिन 900 सदस्यों का करीब 770 लीटर दूध का उत्पादन हो रहा है। यही हाल मंडल के अन्य जनपदों का भी है।

इन समितियों को फिर से एक बार सक्रिय करने व दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए शासन ने मंडल स्तर पर 55.88 करोड़ की लागत से 20 हजार लीटर क्षमता का आधुनिक दुग्ध डेयरी प्लांट लगवाए जाने के लिए स्वीकृति दे दी है। इसके लिए जगह का चिन्हांकन बांदा नरैनी रोड पर किया गया है। वर्ष 2026 तक इसे तैयार किया जाना है। साथ ही चारों जनपदों में ठप पड़ी समितियों को सक्रिय कर हर वर्ष 20 से 30 हजार लीटर दूध का उत्पादन किया जाएगा। प्लांट में तैयार होने से इसमें दूध के बने सारे उत्पाद तैयार किए जाएंगे। जिसमें दूध, छाछ, दही, मक्खन, पनीर, घी आदि तैयार कर खुले बाजार में आपूर्ति की जाएगी। इस डेरी प्लांट से चारों जनपदों चित्रकूट, बांदा, महोबा व हमीरपुर के 800 गांव या दुग्ध समितियां जोड़ी जाएंगी। प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से करीब 50 हजार से अधिक लोगों को घर बैठे रोजगार के साधन उपलब्ध होंगे।

डेयरी प्लांट लगने से 60 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार

उप दुग्ध अधिकारी रामशरन ने बताया कि मंडल स्तर पर कहीं भी डेयरी प्लांट नहीं है। इसे देखते हुए शासन ने मंडल में एक दूध डेयरी प्लांट लगाए जाने की हरी झंडी दे दी है। आचार संहिता के चलते कार्य रुका हुआ था। जल्द ही इसके निर्माण की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इस डेयरी प्लांट के लगने से करीब 50-60 हजार लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे।

हिन्दुस्थान समाचार/पंकज/दिलीप

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story