आईआईटी कानपुर 23 जुलाई को चौथे गाथा महोत्सव की मेजबानी करेगा

आईआईटी कानपुर 23 जुलाई को चौथे गाथा महोत्सव की मेजबानी करेगा


- एक दिवसीय महोत्सव में गणमान्यों द्वारा पैनल चर्चा, टॉक शो, स्किट, ओपन माइक, नृत्य और संगीत प्रदर्शन कार्यक्रम होंगे आयोजित

कानपुर, 14 जुलाई (हि.स.)। प्रसिद्ध ऑडियो प्लेटफार्म गाथा और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) कानपुर के राजभाषा प्रकोष्ठ और शिवानी केंद्र के संयुक्त तत्वावधान में 23 जुलाई 2023 को गाथा के चार वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में चतुर्थ गाथा महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। महोत्सव में एक लिटरेचर फेस्टिवल आईआईटी कानपुर के आउटरीच सभागार में होगा।

वर्तमान की भागमभाग की जिंदगी में जब पुस्तकें जनसामान्य की शैली से अप्रासंगिक होने लगी हैं तब लोगों को साहित्य से जोड़े रखने में गाधा महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। गाथा के माध्यम से हिंदी के प्रसिद्ध रचनाकारों को आप बार-बार लगातार सुन सकते हैं। वहीं राजभाषा प्रकोष्ठ और शिवानी केंद्र हिंदी साहित्य को देश की सर्वश्रेष्ठ मेधा तक न सिर्फ पहुंचा रहे हैं बल्कि उन्हें हिंदी के प्रति समर्पित भाव से जोड़कर हिंदी का कोष समृद्ध करने की दिशा में कार्य कर रहे हैं।

एकदिवसीय गाथा महोत्सव का आयोजन सुबह 09:45 बजे आरंभ हो जाएगा, जिसमें साहित्य के अनेक आयामों से पूरे दिन दर्शकों को आनंदित भी करेगा और हिंदी साहित्य के प्रति उनकी रुचि में अभिवृद्धि भी करेगा। साहित्य, संस्कृति और फिल्म जगत की नामचीन हस्तियों से संवाद के दौर बहुत सी नई जानकारियां तो प्रदान करेंगे ही साथ ही नए दृष्टिकोण भी रचने में सुगमता होगी। महोत्सव की जानकारी आईआईटी जनसम्पर्क अधिकारी द्वारा शुक्रवार को दी गई।

जनसम्पर्क अधिकारी ने बताया कि महोत्सव में चर्चा करने वालों में मुख्य सचिव सकृति एवं पर्यटन मुकेश मेश्राम, प्रसिद्ध फिल्म अभिनेता अखिलेंद्र मिश्रा, सुप्रसिद्ध उपन्यकार मनीषा कुलश्रेष्ठ जी. फिल्म समीक्षक विनोद अनुपम, लेखक नवीन चौधरी, हिंदी अकादमी के सचिव ऋषि कुमार शर्मा जैसे लोग एक ही मंच पर होंगे। वहीं अमित श्रीवास्तव की नृत्य नाटिका, ओपन माइक, कथाकथन और श्रावणी संगीत जैसे कार्यक्रम सम्मोहन के उच्चतम शिखर तक जनसामान्य को ले जाने में सक्षम होंगे।

कार्यक्रम का समापन प्रत्येक वर्ष की भांति कवि सम्मेलन से होगा जिसमें देश के सबसे वरिष्ठ और चर्चित संचालक डॉ शिव ओम अंबर, प्रसिद्ध गजलकार अजहर इकबाल, डीडी उर्दू के निर्देशक नाज इकबाल, प्रसिद्ध हास्यकवि डॉ सर्वेश अस्थाना और चर्चित गीतकार डॉ भावना तिवारी अपनी कविताओं से सभी को आनंदित करेंगे।

कार्यक्रम सुबह 09:45 बजे से आरंभ होकर शाम को 8:00 बजे तक चलेगा। पूरे दिन एक से बढ़कर एक आयोजनों की श्रृंखला में आनंद लेने के लिए सभी नगरवासी नि:शुल्क प्रवेश पा सकते हैं। कार्यक्रम में प्रवेश हेतु मात्र रजिस्ट्रेशन करना है, जिसकी कोई फीस नहीं है।

हिन्दुस्थान समाचार/मोहित /राजेश

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story