अनावृष्टि से किसानों की पेशानी पर आई चिंता की लकीरें









- दो दिन से रुक-रुक हो रही बारिश से बढ़ी मुश्किलें

- आलू, सरसों, चना, मटर सहित आम में रोग फैलने की बढ़ी आशंका

औरैया, 25 जनवरी (हि.स.)। जनपद में मौसम के बदलते मिजाज ने किसानों की माथे पर बल ला दिए हैं। गेंहू और जौ को छोड़कर बाकी फसलों को नुकसान की आशंका के बीच आम की फसल में रोग की संभावना बढ़ गई हैं।

आलू उत्पादक किसान तिलक सिंह बताते हैं कि उनकी 30 बीघे आलू की फसल में झुलसा रोग की संभावना बढ़ गई है। वहीं चना में सफेदा रोग लगना तय है। इधर, सरसो के फूल झड़ने से उत्पादन क्षमता प्रभावित हो गई है। किसान श्यामजी दीक्षित का कहना है कि अगर दो दिन में मौसम ने करवट न बदली तो फसलों को लगभग तीस प्रतिशत तक नुकसान का अनुमान है। दलहनी फसलों में अरहर को तो 50 प्रतिशत तक नुकसान की संभावना है।

धैर्य रखें मौसम में जल्द होगा सुधार

कृषि अनुसंधान केंद्र परवाहा के वरिष्ठ मौसम विज्ञानी डा अनंत कुमार ने किसानों से धैर्य रखने की अपील करते हुए बताया कि अभी तक हुई बारिश से व्यापक नुकसान की उम्मीद नहीं की जा सकती है। मामूली आंशिक नुकसान के बीच जल्द ही मौसम साफ होने की संभावना है। दलहनी फसलों में फिलहाल दवाओं का छिड़काव से अभी बचें तो अच्छा है।

हिन्दुस्थान समाचार/ सुनील

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story