ग्राम पंचायत सराय टड़वा में प्रधान की सूझ-बूझ ने खींचा विकास का खाका











- लोगों ने दिया साथ तो कर्मयोगी बने उदय ने कर डाला विकास का उदय

औरैया, 25 जनवरी (हि.स.)। सपनों को अगर उड़ान मिल जाए तो आसमां भी कदमों में होता है। ऐसा ही कुछ जिले की पिछड़ी पंचायत में शुमार रही सराय टड़वा को जब उदय कुमार का नेतृत्व मिला तो लोगों की उम्मीदों का उदय भी हो गया। गांव में विकास कार्यों की गति ने ग्रामीणों के सपने साकार होने लगे हैं।

विकासखंड अजीतमल की ग्राम पंचायत सराय टड़वा में मूलभूत सुविधाओं को लेकर हमेशा से ही रोना रोते ग्रामीणों ने गांव की सरकार की कमान जब शिक्षित युवा यतीन्द्र कुमार उर्फ उदय को निर्वाचित कर दी, तो अपनी दूरगामी सोच और विकासवादी दृष्टिकोण ने गांव की तस्वीर बदलने की ठानी। लोगों को सरकारी योजनाओं से लाभान्वित कराने के प्रयासों ने सूरत और सीरत दोनों बदलने लगी। आलम यह है कि गांव में आज मौलिक सुविधाओं के नाम पर बिजली, पानी, सड़क और शिक्षा की जरूरतें लगभग पूर्ण हो रही हैं। साथ ही आवास, शौचालय, दिव्यांग पेंशन सहित खद्यान्न वितरण की व्यवस्था काफी हद तक सुद्रण हुई हैं। लोगों को आवारा जानवरों से निजात दिलाने के लिए अस्थाई गौवंश आश्रय गौशाला की स्थापना और बाउंड्रीवाल सहित उनके देख-रेख की जिम्मेदारी का सही क्रियान्वयन किया जा रहा है।

ग्राम पंचायत से संबद्ध मजरे उमरपुर, मीरपुर प्रीतम सिंह, गोकुलपुर, मंतला राजस्व ग्रामों में भी बिना भेदभाव के विकास कार्यों को अंजाम दिया जा रहा है। ग्रामीण सुमित, शिवकेश, मुन्नीलाल, लखमी चंद्र बताते हैं कि अब उनकी पंचायत पिछड़ी श्रेणी से उठकर विकासशील की स्थिति में आ गई है। गांव में ग्राम प्रधान की सूझ-बूझ और विकासवादी सोच से विकास कार्य हो रहे हैं। स्वच्छता अभियान पहली प्राथमिकता बना हुआ है जिसके तहत नालियों की नियमित साफ सफाई का विशेष ध्यान रखा जा रहा है।

क्या कहते हैं ग्राम प्रधान

ग्राम प्रधान यतीन्द्र कुमार राठौर उर्फ उदय कहते हैं कि प्रधानी के उत्तरदायित्व मिलने से पहले वह विद्युत विभाग में बतौर लाइनमैन कार्य करते थे, लेकिन ग्रामीणों के अनुरोध पर वह प्रधान का चुनाव तो लड़े मगर गांव की समस्याओं को लेकर मेरे मन में हमेशा से ही विकास से संतृप्त सपना था। आज ग्रामीणों के सहयोग से विकास यात्रा जारी है।

अब तक हुए विकास कार्य

- पूर्व माध्यमिक विद्यालय का कायाकल्प

- स्वच्छता अभियान के तहत नालियों का निर्माण

- गौशाला की बाउंड्रीवाल और खड़ंजे का निर्माण

- मनरेगा से चकरोडों का दुरुस्तीकरण

- पात्र जनों को आवास और शौचालय की समुचित व्यवस्था

- दिव्यांग और वृद्धजनों को पेंशन योजना का लाभ दिलाना

- राशन वितरण और जनसेवा केंद्र पर उचित क्रियान्वयन

- मनरेगा के तहत रोजगार गारंटी के मानकों का पालन

हिन्दुस्थान समाचार/ सुनील

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story