मेला क्षेत्र में सेना ने नहीं दी अनुमति, ओम नमः शिवाय का भण्डारा हुआ बंद

मेला क्षेत्र में सेना ने नहीं दी अनुमति, ओम नमः शिवाय का भण्डारा हुआ बंद
मेला क्षेत्र में सेना ने नहीं दी अनुमति, ओम नमः शिवाय का भण्डारा हुआ बंद


--प्रशासन से अनुमति मिलने के बाद फिर से शुरू होगा अन्नक्षेत्र : गुरुदेव

-अन्नक्षेत्र चलाने के लिए शीघ्र जमीन व सुविधा दी जाएगी : विजय किरन आनंद

प्रयागराज, 03 अप्रैल (हि.स.)। संगमनगरी में हर वर्ष लगने वाला सबसे बड़ा अन्न क्षेत्र ओम नमः शिवाय के गुरुदेव ने बताया कि अगले वर्ष 2025 महाकुम्भ को देखते हुए लोक निर्माण विभाग, सिंचाई विभाग, पावर कारपोरेशन, राज्य सेतु निगम, रेलवे सहित अन्य विभागों का मेला क्षेत्र परेड के आसपास काम चल रहा है। श्रमिकों के खाने की समस्या के निस्तारण के लिए महाकुम्भ के मेलाधिकारी विजय किरन आनंद ने परेड में चल रहे अन्न क्षेत्र को महाकुम्भ तक चलाने के लिए कहा था। इसलिए इस बार शिविर नहीं उखाड़ा गया था और अन्नक्षेत्र चलता रहा, लेकिन सेना ने आकर बंद करा दिया, जिससे आज सभी सामान हटाया जा रहा है।

महाकुम्भ मेला प्रशासन के अफसरों के आग्रह पर परेड के त्रिवेणी रोड पर ओम नमः शिवाय की ओर से विशाल भण्डारा दिन-रात चल रहा था। जहां हजारों श्रद्धालु, स्नानार्थी और श्रमिक दिन-रात प्रसाद ग्रहण कर रहा था। इसी दौरान सेना ने भण्डारा चलाने की अनुमति देने से इनकार कर दिया। इस पर ओम नमः शिवाय के शिष्यों ने आज से शिविर हटाना शुरू कर दिया है। जबकि महाकुम्भ के मेलाधिकारी विजय किरन आनंद का कहना है कि ओम नमः शिवाय के दिन रात अन्नक्षेत्र चलने से तीर्थयात्रियों और काम करने वालों को सुविधा थी। ऐसे में ओम नमः शिवाय को अन्नक्षेत्र चलाने के लिए शीघ्र जमीन और सुविधाओं का आवंटन होगा।

उधर, ओम नमः शिवाय के गुरुदेव ने बताया कि इस बार माघ मेला में अन्नक्षेत्र परेड में 20 दिसम्बर 2023 से शुरू होकर दो अप्रैल बुधवार तक मेला क्षेत्र के कई स्थानों पर दिन-रात भण्डारा चला था। उन्होंने बताया इस बार महाकुम्भ स्नान के लिए भीड़ आ रही है। वहीं दूसरी ओर श्री अयोध्या धाम में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर निर्माण होने से दक्षिण भारत सहित अन्य क्षेत्रों के बड़ी संख्या में श्रद्धालु हजारों की संख्या में प्रतिदिन संगम स्नान कर अयोध्या जा रहे हैं, इससे भी भीड़ बढ़ी है। इन सभी श्रद्धालुओं, श्रमिकों और अन्य लोगों की सुविधा के लिए अन्न क्षेत्र दिन-रात परेड में चल रहा था। दो दिन पहले पावर कारपोरेशन ने बिजली काट दी थी। सेना वाले बार-बार जमीन खाली करने के लिए कह रहे थे।

इस मामले की जानकारी मेला प्रशासन के अफसरों को दी गई थी, लेकिन सेना वाले नहीं मान रहे थे। जिस पर शिविर आज से हटाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि महाकुम्भ के मेलाधिकारी की तरफ से जब अन्न क्षेत्र चलाने की अनुमति परेड में दी जाएगी, तब विशाल अन्नक्षेत्र महाकुम्भ तक दिन-रात चलता रहेगा।

हिन्दुस्थान समाचार/विद्या कान्त/सियाराम

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story