बच्चा हो या बुजुर्ग नियमित रूप से दूध जरूर पियें

बच्चा हो या बुजुर्ग नियमित रूप से दूध जरूर पियें


— दूध है सम्पूर्ण आहार, स्वास्थ्य को बनाता है मजबूत

—नेशनल मिल्क-डे (26 नवम्बर) पर विशेष

वाराणसी, 25 नवम्बर (हि.स.)। जब कभी भी सम्पूर्ण भोजन की बात होती है तो सबसे पहले दूध का नाम सामने आता है। शाकाहारियों के लिये दूध को इसलिए पूर्ण भोजन माना जाता है, क्योंकि इसमें प्रोटीन, फैट, कार्बोहाइड्रेट और वह सारे विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं जो एक अच्छे स्वास्थ्य के लिए जरुरी होते हैं। दूध में मौजूद इतने सारे पोषक तत्व और पाचक गुण होने की वजह से इसे आयुर्वेद में एक अलग ही स्थान दिया गया है। यह कहना है चौकाघाट स्थित राजकीय स्नातकोत्तर आयुर्वेद महाविद्यालय एवं चिकित्सालय में काय चिकित्सा व पंचकर्म विभाग के डा. अजय कुमार का।

डॉ अजय कुमार ने नेशनल मिल्क-डे (26 नवम्बर) की पूर्व संध्या पर बताया कि दूध को एक संपूर्ण पौष्टिक आहार के रूप में माना जाता है। आवश्यक सभी पोषक तत्वों का यह एक बहुत अच्छा स्रोत है। यही कारण है कि बच्चा हो या बुजुर्ग, शाकाहारी हो या मांसाहारी सभी को इसका नियमित सेवन जरूर करना चाहिए। यह बेहतर सवास्थ्य का मजबूत आधार बनाता है।

डा. अजय बताते है कि देश में श्वेत क्रांति के जनक डॉ. वर्गीज कुरियन का जन्म 26 नवंबर को हुआ था, उनकी याद में इस दिन को राष्ट्रीय दुग्ध दिवस के रूप में मनाने के साथ ही दूध की खूबियों के प्रति लोगों को जागरूक किया जाता है। वह बताते है कि दूध में आवश्यक सभी पोषक कैल्शियम, मैगनिशियम, जिंक, फॉसफोरस, आयोडीन, आयरन, पोटेशियम, फोलेट्स, विटामिन-ए, विटामिन-डी, राइबोफ्लेविन, विटामिन बी-12, प्रोटीन,स्वस्थ फैट आदि मौजूद होता है। उन्होंने बताया कि सामान्यतया दूध मधुर, चिकना, ओज एवं रस आदि धातुओं को बढ़ाने वाला, वात पित्त कम करने वाला, वीर्य को बढ़ाने वाला, भारी और शीतल होता है।

— बच्चों के लिए मां का दूध सर्वश्रेष्ठ आहार

डा. अजय बताते है कि बच्चों के लिए मां का दूध सर्वश्रेष्ठ आहार होता है। छह माह ,तक के बच्चों को मां के दूध के अलावा और कुछ भी नहीं देना चाहिए। मां का दूध उनके लिए अमृत के समान होता है। जन्म के फौरन बाद बच्चे को मां का पीला, गाढ़ा दूध जरूर पिलाना चाहिए। यह दूध उसे तमाम बीमारियों से बचाने वाले टीके के समान होता है। बच्चा यदि दूध नहीं पी रहा है तो डाक्टर से जरुर संपर्क करें । बड़े होने पर सभी को गाय का दूध पीना चाहिये। गाय का दूध सभी जानवरों के दूध में सर्वश्रेष्ठ होता है।

—देशी गाय का दूध अधिक फायदेमंद

डा. अजय बताते है कि दूध का प्रोटीन कंपोनेंट 80 प्रतिशत केसिन से बना होता है। दूध में पाए जाने वाले बीटा केसिन प्रोटीन दो प्रकार के होते है ए-1 और ए-2 । यूके व अन्य देशों से आयात की गई जर्सी गाय के दूध में ए-1 और ए-2 दोनों तरह के बीटा केसिन प्रोटीन पाए जाते हैं । यूरोप से आयातित होल्स्टीन गाय के दूध में ए-1 प्रोटीन होता है। लेकिन देशी गाय के दूध में सिर्फ ए-2 बीटा केसिन प्रोटीन पाया जाता है। इसलिए देशी गाय का दूध अधिक फायदेमंद इसलिए होता है ।

— बरतें सावधानी

सुबह का कच्चा दूध यदि उबला नही गया है तो वह अभिष्यंदी और भारी होता है । जिससे पेट में भारीपन और अपच की शिकायत हो सकती है, लेकिन इसी दूध को उबाल देने से इसका भारीपन कम हो जाता है। यदि दूध को बहुत अधिक देर तक उबाल दिया जाए तो भी यह भारी हो जाता है। इसलिए इसे बहुत अधिक देर तक उबाल कर नहीं पीना चाहिए। वजन बढ़ाना हो तो यह दूध लाभदायक होता है। मोटे व्यक्ति को नियमित रूप से केले को दूध के साथ नहीं इस्तेमाल करना चाहिए। क्योंकि दूध के साथ केला मिलकर अत्यधिक शीत और भारी हो जाता है, लेकिन यदि वजन बढ़ाना हो तो इसे ले सकते हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story