पूर्व विधायक गजाला लारी के भाई ने पत्नी को दिया तलाक



- पीड़ित महिला ने प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री से लगाई सुरक्षा की गुहार

कानपुर, 25 जनवरी (हि.स.)। जनपद में तलाक देकर दूसरा निकाह करने का मामला बुधवार को सामने आया है। पीड़ित महिला भाजपा से उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक आयोग की पूर्व सदस्य रही है। उनके पति ने उन्हें तलाक देकर घर से बेदखल कर दिया और अब वह दूसरा निकाह करने की तैयारी में है। पीड़िता ने चार विधायक रह चुकी गजाला लारी और उनके भाई अर्थात अपने पति से जान का खतरा बताते हुए पुलिस कमिश्नर कानपुर को शिकायत करते हुए सुरक्षा की गुहार लगाई है।

मूलरूप से चेन्नई सैदापेट निवासी अल्पसंख्यक आयोग की पूर्व सदस्य सोफिया अहमद वर्तमान में स्वरूप नगर के हैबिटेट अपार्टमेंट में रहती हैं। उन्होंने बताया कि समाजवादी और बसपा से चार बार विधायक रह चुकी गजाला लारी के भाई कर्नलगंज निवासी शारिक अराफात से 12 जून 2015 को निकाह हुआ था। शादी में लगभग 80 लाख के जेवर, बीएमडब्ल्यू कार और लगभग दो करोड़ शादी में खर्च हुए थे।

सोफिया ने आरोप लगाया है कि अगस्त 2016 में पति ने मारपीट करके एक तलाक दिया और घर से एक साल के बेटे जोहान के साथ बेदखल कर दिया। इसके बाद वह स्वरूप नगर स्थित अपने फ्लैट में रहने लगी। ससुरालियों से प्रताड़ित होकर उन्होंने मामले में पति शारिक अराफात, ननद गजाला लारी समेत ससुरालियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। इसके बाद 2019 में दोनों के बीच समझौता हुआ और फिर वह ससुराल आने-जाने लगी, लेकिन स्थाई रूप से नहीं रहती थी। अब उन्हें पता चला है कि पति शारिक ने दूसरी जगह निकाह करने की तैयारी कर ली है। 27 जनवरी को उसका निकाह होना है।

पुलिस कमिश्नर बीपी जोगदंड को प्रार्थना पत्र देकर न्याय की गुहार लगाई है। इसके साथ ही उन्होंने पति और चार बार की विधायक रही ननद से भी जान का खतरा बताया है। पुलिस आयुक्त ने मामले में जांच का आदेश दिया है।

सोफिया अहमद ने रविवार रात को अपने ट्वीटर अकाउंट से एक वीडियो पोस्ट किया है। इसमें उन्होंने कहा है कि मैं सोफिया अहमद पूर्व अल्पसंख्यक आयोग सदस्य भाजपा से हूं। मेरी शादी 2015 में शारिक अराफात से हुई थी, जो कि सपा विधायक रहीं गजाला लारी के भाई हैं। मेरे पति ने 2016 में एक तलाक देते हुए घर से निकाल दिया था। इसके बाद न्यायालय से रुखसती का केस डालते हुए मुझे पत्नी स्वीकार किया।

क्योंकि मैं भाजपा से जुड़ी हुई हूं, भाजपा की विचारधारा पर चल रही हूं। मेरा पति मुझे पार्टी छोड़ने के साथ समझौता करने का भी दबाव डाल रहे हैं। पति ने मुझे जानमाल की धमकी देते हुए दूसरा निकाह कर रहे हैं। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री से गुहार लगा रही हूं कि मेरे और मेरे बच्चे के जान माल की सुरक्षा की जाए।

हिन्दुस्थान समाचार/राम बहादुर

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story