कानपुर : डॉक्टरों की लापरवाही से मोतियाबिंद के छह रोगियों की गई आंख की रोशनी

कानपुर : डॉक्टरों की लापरवाही से मोतियाबिंद के छह रोगियों की गई आंख की रोशनी


-सीएमओ ने जांच के लिए गठित की है टीम

कानपुर, 22 नवम्बर (हि.स.)। बर्रा इलाके में स्थित एक निजी आंख अस्पताल के डॉक्टरों की लापरवाही के चलते छह रोगियों के आंख की रोशनी चली गई। पीड़ित मरीजों को उपचार के लिए कांशीराम अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जांच के लिए सीएमओ ने एक टीम गठित कर दी है।

आराध्या आई हॉस्पिटल में नि:शुल्क नेत्र शिविर के नाम पर कुछ दिन पहले शिवराजपुर के रहने वाले लोगों ने मोतियाबिंद का ऑपरेशन कराया था। जिनकी संख्या 11 बतायी जा रही है। नि:शुल्क शिविर में लोगों दुर्गेश शुक्ला नाम का युवक ले गया था। आरोप है कि डॉक्टर नीरज कुमार और डॉक्टर अंशुल पांडे ने इन लोगों के आंखों का ऑपरेशन किया। दोनों चिकित्सकों ने बगैर किसी जांच के ही ऑपरेशन कर दिया और परिणाम यह हुआ कि छह लोगों के आंखों की रोशनी हमेशा के लिए चली गई।

मामले की शिकायत लेकर पीड़ित मरीज राजा राम, कुरील, रमेश कश्यप, नन्ही, सुल्ताना, शेर सिंह, रमादेवी सोमवार को मुख्य चिकित्साधिकारी के कार्यालय पहुंचे और लापरवाही करने वाले डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग करने लगे। मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्य चिकित्साधिकारी आलोक रंजन ने सभी पीड़ितों को तत्काल उपचार एवं जांच के लिए सरकारी अस्पताल कांशीराम के लिए भेज दिया। उन्होंने इस मामले की जांच के लिए कमेटी बनायी गई है उनकी रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

पीड़ित राजाराम और हरपाल सिंह चंदेल ने शिवराजपुर के ग्राम प्रधान से शिकायत थी। जिसके बाद हरपाल ने मामले की शिकायत मुख्य चिकित्सा अधिकारी से की है।

हिन्दुस्थान समाचार / महमूद

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story