किसान परम्परागत खेती को पुनर्जीवित करने में आए आगे : अपर मुख्य सचिव कृषि



- अन्तरराष्ट्रीय मिलेट्स वर्ष-2023 के परिप्रेक्ष्य में कृषि विभाग उत्तर प्रदेश ने की पहल

लखनऊ, 25 जनवरी (हि.स.)। उत्तर प्रदेश दिवस आयोजन के अवसर पर अवध शिल्प ग्राम में आयोजित कार्यक्रमों की श्रृंखला में अन्तरराष्ट्रीय मिलेट्स वर्ष के परिप्रेक्ष्य में कृषि विभाग ने एक संगोष्ठी का आयोजन किया। मुख्य अतिथि अपर मुख्य सचिव कृषि देवेश चर्तुवेदी ने परम्परागत खेती को पुनर्जीवित करने हेतु सरकार के प्रयासों के सम्बन्ध में अवगत कराते हुए आह्वाहन किया कि किसान इसकी खेती से जुड़ें।

कृषि विज्ञान केन्द्र के प्रभारी डा. ए.के. दुबे द्वारा मिलेट्स ने बताया कि पोषण देने के साथ-साथ प्राकृतिक खेती के अन्तर्गत मिलेट्स का उत्पादन आसानी से कम लागत में किया जा सकता है। संगोष्ठी में मिलेट्स से जुड़े कृषक उत्पादक संगठनों द्वारा भी अपने अनुभवों को साझा किया गया। चित्रकूट के कृषक उत्पादक संगठन के निदेशक सदस्य द्वारा मिलेट्स के बीजोत्पादन और उनके उपलब्धता की जानकारी दी गयी।

लखनऊ स्थित राष्ट्रीय गौ-उत्पादक संघ के राधेश्याम दीक्षित द्वारा मिलेट्स के मूल्य संवर्धन, मिलेट्स से बनने वाले विभिन्न व्यंजनों, तथा इनके विपणन के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी गयी। इस अवसर पर कृषि निदेशक विभाग के वरिष्ठ अधिकारीगण, एफपीओ के सदस्य एवं काफी संख्या में किसान उपस्थित रहे।

हिन्दुस्थान समाचार/उपेन्द्र

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story