काशी विद्यापीठ में सफाई कर्मचारियों ने वेतन न मिलने पर जताई नाराजगी, दिया धरना

काशी विद्यापीठ में सफाई कर्मचारियों ने वेतन न मिलने पर जताई नाराजगी, दिया धरना

संवाददाता : राजेश अग्रहरि 
वाराणसी।
महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में सोमवार की सुबह दो माह से वेतन न मिलने से नाराज सफाई कर्मचारियों ने धरना प्रदर्शन शुरु कर दिया। सफाई कर्मचारियों का कहना है कि कोरोना काल वेतन न मिलने से परिवर चलाना मुश्किल हो गया है। कर्मचारियों के धरना प्रदर्शन का पता चलते ही सुपरवाइजर सोनू कुमार पटेल ने उन्हें समझाया और विश्विद्यालय प्रशासन से इम मामले में बात करने की बात कही तब जाकर सफाई कर्मचारियों ने धरना समाप्त किया। 

विश्वविद्यालय में स्थित सफाई चौकी और प्रशासनिक भवन के बाहर धरना प्रदर्शन कर रहे सफाई कर्माचरी अजय कुमार ने कहा कि कोरोना काल में पिछले दो-तीन माह से वेतन न मिलने से घर में दवा, बच्चों की फीस और अन्य ज़रूरत की चीजों के लिए कर्ज लेकर घर का खर्च चालाना पड़ रहा है। इसमें भी मकान का किराया और अन्य खर्च संभालना मुश्किल हो गया है।  

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा इसकी शिकायत जब विश्वविद्यालय प्रशासन से की जा रही है तो हमें चेतावनी देते हुए बोल दिया गया कि आपको काम करना है तो करिये वरना जाइए। कोरोना की महामारी में ऐसे हमे हटा दिया जाएगा तो हम कहा जाएंगे। 

सुपरवाइजर सोनू कुमार पटेल ने बताया कि कोरोना काल में अधिकारियों के न बैठने से सफाई कर्मचारियों की फाइल नहीं बढ़ पा रही है, जिसके चलते इनका 2 माह का वेतन रुका हुआ है। यूनिर्वसिटी खुलते ही फाइल पर सिग्नेचर होते ही ठेकेदार के अकाउंट में पैसा आएगा फिर ठेकेदार द्वारा इन्हें वेतन दिया जाएगा। 

फिलहाल सुपरवाइजर के कहने पर सफाईकर्मियों ने धरना समाप्त कर दिया है। धरना देने वालों में मुख्य रुप से विष्णु सिंह, धीरज कुमार, अखिलेश कुमार, पवन कुमार, संतोष कुमार, चंदन, किरण देवी, रज्जो देवी, शांति देवी, नगीनादेवी, भूलीदेवी, आशादेवी, गीतादेवी व अन्य कर्मचारी मौजुद रहे।

देखिए वीडियो 

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिककरें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये यहां क्लिककरें।

Share this story