वाराणसी पुलिस की कार्रवाई के बाद मेडिकल स्टोर संचालकों में आक्रोश, लंका पर बंद कराई दवा की दुकानें

वाराणसी पुलिस की कार्रवाई के बाद मेडिकल स्टोर संचालकों में आक्रोश, लंका पर बंद कराई दवा की दुकानें

वाराणसी। दवाओं की कालाबाज़ारी की लगातार मिल रही सूचना के बीच जांच करने पहुंचे लंका थाने के दरोगा को ही ज़्यादा मूल्य में सामान बेचने में फसे मेडिकल स्टोर पर वाराणसी पुलिस ने कार्रवाई की है। रविवार को हुई इस कार्रवाई के बाद मेडिकल स्टोर संचालकों ने विरोध शुरू कर दिया है और लंका इलाके में सभी दवा की दुकानों को बंद करवा दिया है, जिससे मरीज़ों के तीमारदारों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। 

इस सम्बन्ध में जब दवा व्यवसायी अम्बुज चतुर्वेदी से बात की गयी तो उन्होंने कहा कि लंका थाने के दरोगा साहब ने कल मेरे कृष्णा मेडिकल स्टोर पर आकर ऑक्सीमीटर माँगा। इसपर मेरे बड़े भाई नीरज चतुर्वेदी ने उन्हें ऑक्सीमीटर पक्के बिल के साथ 1400 रुपये में दिया। इसपर उन्होंने कहा कि 1200 प्रिंट है तो भाई ने उन्हें बिल दिखाया, जिसमे हमारी परचेज़ 1250 की है तो हम उसे 1200 में कैसे बेचेंगे। 

इसके अलावा आज एक बार फिर पास के ही रेखा मेडिकल स्टोर पर पुलिस आ धमकी और वहां मालिक और उनके चार वर्कर्स को देख कर कहा कि धारा 144 लगी हुई है, तुम्हे नहीं पता दुकान पर भीड़ लगाते हो, कल से दुकान खुली तो जेल भेज दूंगा। 

मेडिकल स्टोर संचालक नीरज चतुर्वेदी के भाई अम्बुज चतुर्वेदी ने Live VNS को फोन पर बताया कि हमने इसके बाद दुकाने बंद करने का फैसला लिया है। हमारा एक प्रतिनिधिमंडल उच्च अधिकारियों से मिलकर इस प्रताड़ना के खिलाफ बात करेगा। उन्होंने कहा कि यदि हम गलत हैं तो डीएम और सीएमओ तय करें। 

वहीं अम्बुज ने आरोप लगते हुए कहा कि मेरे भाई जिनका वीडियो कल दरोगा साहब ने बनाया था वो बीपी के मरीज़ हैं और कल से ही उनकी तबियत खराब है। यदि उन्हें कुछ जो जाएगा तो उसकी ज़िम्मेमदारी कौन लेगा।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिककरें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये यहां क्लिककरें।

Share this story