स्वयं सहायता समूहों के 14 आउटलेट से 6 दिनों में हुई ढाई लाख से अधिक हुई आय

स्वयं सहायता समूहों के 14 आउटलेट से 6 दिनों में हुई ढाई लाख से अधिक हुई आय
स्वयं सहायता समूहों के 14 आउटलेट से 6 दिनों में हुई ढाई लाख से अधिक हुई आय


स्वयं सहायता समूहों के 14 आउटलेट से 6 दिनों में हुई ढाई लाख से अधिक हुई आय


स्वयं सहायता समूहों के 14 आउटलेट से 6 दिनों में हुई ढाई लाख से अधिक हुई आय


-चारधाम यात्रा पर आ रहे श्रद्धालुओं को खूब भा रहा पहाड़ी व्यंजन

-स्थानीय उत्पादन बेचकर स्वयं सहायता समूह की महिलाएं बन रही आत्मनिर्भर : जय किशन

उत्तरकाशी, 16 मई (हि.स.)। चारधाम यात्रा मार्गों पर देश-विदेश के श्रद्धालुओं को पहाड़ी व्यंजन खूब भा रहा है। गंगोत्री राजमार्ग पर स्वयं सहायता समूहों के 14 आउटलेट खोले गये हैं।

प्रतिदिन आउटलेट केन्द्रों में 15000 रुपये की आय हो रही यात्रा शुभारंभ के 6 दिनों में लगभग 2 लाख 61 हजार की आय प्राप्त हो चुकी है।

मुख्य विकास अधिकारी जयकिशन ने प्रधानमंत्री मोदी के वोकल फॉर लोकल मिशन को आगे बढ़ाया है।पहाड़ी भोजन की डिमांड बढ़ गई है। उन्होंने बताया कि आउटलेट केन्द्रों में चौलाई के लड्डू, जेम, चटनी, बुरांश, माल्टा जूस, सिल्बटा पीसा नमक, स्थानीय पकवान, ऑर्गेनिक उत्पाद, काष्ठकला, हैण्डलूम, हथकरघा परिधान आदि पर्यटकों को खूब पंसद व आकर्षित कर रहे हैं।

उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन की पहल पर स्वयं सहायता समूहं से जुड़ी महिलाओं को उनके द्वारा उत्पादित उत्पादों का सही मूल्य दिलाने के लिए यात्रा मार्गों पर स्टाल लगवाए गये। जहां से श्रद्धालु स्थानीय उत्पादों का क्रय कर सके। इन दिनों चारधाम यात्रा शबाब पर है स्वयं सहायता समूह की महिलाएं स्थानीय उत्पादन बेचकर अच्छा खाश मुनाफा कमा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि भटवाड़ी विकास खंड अंतर्गत गंगोत्री हाइवे पर हिना परिवहन पार्किंग, मनेरी वाटर फॉल , झाला, गंगोत्री धाम,पर स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा स्थानीय बुरांस का जूस,चाय,मंडवा,लोकल दाले, चटनी, पहाड़ी नमक,चटनी आदि स्थानीय उत्पाद बेचकर महिलाएं आत्मनिर्भर बन रही हैं।

इधर जिला परियोजना प्रबंधक रिप कपिल उपाध्याय ने बताया कि स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को स्वरोजगार करने और अधिक से अधिक रोजगार के अवसर प्रदान करने के साथ बाहर से आ रहे श्रदालुओं को बेहतर सुविधा के साथ गुणवत्ता वाले उत्पाद उपलब्ध कराये जाने के क्रम में एनआरएलएम व रीपके अन्तर्गत चिन्यालीसौड़ में बडे़ंथी गंगोत्री राजमार्ग पर, डुंडा वीरपुर, चौरंगी खाल, बहृमखाल शिव गुफ़ा, सहित नौगांव विकास खंड अंतर्गत यमुनोत्री हाईवे पर वर्नी गाड़ रिखाउ खड़, तुनाल्का, बड़कोट दुबाटा, खरादी, जानकी चट्टी में में स्टाल उपलब्ध करवाई गई है जहां समूह की महिलाएं स्थानीय उत्पादन सहित छाता, रेनकोट, छडी किराये पर देकर स्वयं सहायता समूह की महिलाएं अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं।

गुरुवार को गंगोत्री यात्रा पडावों के हिना, मनेरी आदि में मां गंगा सीएलएफ आउटलेट केन्द्रों का स्थलीय निरीक्षण मुख्य विकाश अधिकारी जय किशन, जिला विकास अधिकारी रमेश चंद्र , जिला परियोजना प्रबंधक रिप कपिल उपाध्याय ने निरीक्षण के दौरान महिला समूहों का उत्साहवर्धन करते हुये उनके द्वारा किये गये प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि आउटलेट केन्द्रों में विशेष रूप से स्वच्छता पर ध्यान दिया जाना अत्यंत महत्वपूर्ण है। पर्यटकों को भी इस ओर जागरूक किया जाये।

क्या कहती हैं स्वयं सहायता समूह की महिलाएं?

गंगोत्री हाइवे पर परिवहन पार्किंग हिना में मां गंगा कलस्टर लेवल फेडरेशन ग्राम पंचायत-मंग्राली, विकासखण्ड भटवाड़ी की महिलाओं ने बताया कि राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के सहयोग से हमें यात्रा मार्ग पर आवटलेट निःशुल्क उपलब्ध करवाया है। हम समूह की महिलाएं स्थानीय उत्पाद चटनी ,अचार ,बुरांश का जूस ,पुदीना का जूस, पहाड़ी दाल, रोटी, लाल चावल, पहाड़ी व्यंजन आदि बेच रही हैं। इससे हमारी एक दिन में लगभग 15 हजार रुपए तक की आमदनी हो रही है।

हिंदुस्थान समाचार/चिरंजीव सेमवाल /रामानुज

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story