मानव संसाधन प्रबंधन में उत्कृष्टता लाने के लिए 'एचआर रिट्रीट: नेविगेटिंग इमर्जिंग ट्रेंड्स' प्रशिक्षण

मानव संसाधन प्रबंधन में उत्कृष्टता लाने के लिए 'एचआर रिट्रीट: नेविगेटिंग इमर्जिंग ट्रेंड्स' प्रशिक्षण


देहरादून, 16 मई (हि.स.)। विद्युत क्षेत्र के कार्यबल की बढ़ती आवश्यकताओं को पूरा करने और उन्हें अत्याधुनिक मानव संसाधन तकनीकी समाधान प्रदान करने की प्रतिबद्धता के साथ ऋषिकेश स्थित तक्षशिला सतत आजीविका एवं सामुदायिक विकास केंद्र में गुरुवार को टीएचडीसीआईएल की ओर से ‘एचआर रिट्रीट: नेविगेटिंग इमर्जिंग ट्रेंड्स’ परिवर्तनकारी प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

टीएचडीसीआईएल अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक आरके विश्नोई ने बताया कि टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड राष्ट्र को 24 घंटे विद्युत प्रदान करने की अपनी अटूट प्रतिबद्धता के साथ उन्नत प्रशिक्षण पद्धतियों और मानव संसाधन पहलों के माध्यम से सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (पीएसयू) में परिवर्तन को भी प्रेरित कर रहा है।

यह प्रशिक्षण कार्यक्रम मध्यम स्तर के मानव संसाधन प्रबंधकों के लिए तैयार किया गया है, जो संगठनात्मक उत्कृष्टता को बढ़ावा देने के लिए टीएचडीसीआईएल की प्रतिबद्धता का प्रतीक है। उन्होंने टीएचडीसीआईएल के तक्षशिला सतत आजीविका और सामुदायिक विकास केंद्र के महत्व को भी रेखांकित किया। नवोन्मेषी हितधारक से जुड़ाव और कौशल वृद्धि पहल के लिए एक प्रमुख केंद्र के रूप में इसकी सराहना की।

16 से 18 मई तक आयोजित किए जा रहे एचआर रिट्रीट कार्यक्रम का उद्घाटन एसजेवीएन लिमिटेड की पूर्व अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक गीता कपूर, टीएचडीसीआईएल निदेशक (कार्मिक) शैलेंद्र सिंह ने किया। गीता कपूर ने संगठनात्मक प्रगतिशीलता और लचीलेपन को बढ़ावा देने में ऐसे प्रशिक्षण कार्यक्रमों की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए मानव संसाधनों के तेजी से विकसित हो रहे परिदृश्य को अपनाने के विशेष महत्व पर जोर दिया। उन्होंने संगठनात्मक उत्कृष्टता प्राप्त करने में मानव संसाधन प्रथाओं की परिवर्तनकारी क्षमता पर भी अपने विचार व्यक्त किए।

शैलेंद्र सिंह ने एक प्रगतिशील कॉर्पोरेट लोकाचार विकसित करने के लिए टीएचडीसीआईएल की प्रतिबद्धता दोहराई। कार्यक्रम को भविष्य के मानव संसाधन नेतृत्वकर्ताओं को तैयार करने के लिए आधारशिला के रूप में स्थापित किया। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम समकालीन मानव संसाधन प्रतिमानों की समग्र समझ प्रदान करता है। टीम की गतिशीलता, नेतृत्व गुण, एचआर मेट्रिक्स उपयोग और परिवर्तनकारी प्रबंधन रणनीतियों जैसे विविध विषयों को शामिल करते हुए, यह विशेष कार्यक्रम प्रतिभागियों को आधुनिक कार्यबल गतिशीलता के साथ जटिलताओं में भी संचालन करने के लिए आवश्यक कौशल से लैस करता है। विशेष रूप से यह कार्यक्रम मानव संसाधन कार्यों में कृत्रिम बुद्धिमत्ता और वाक्य विन्यास जैसी अत्यधुनिक तकनीकों के एकीकरण पर प्रकाश डालता है, जो उपक्रम की प्रतिस्पर्धा में सबसे आगे रहने के लिए टीएचडीसीआईएल की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

उन्होंने कहा कि टीएचडीसीआईएल, एसजेवीएन, रैटल एचपीसीएल, पीजीसीआईएल, आरईसी लिमिटेड, एनईईपीसीओ, यूजेवीएन लिमिटेड और एनएचपीसी जैसे प्रमुख सार्वजनिक क्षेत्र के संगठनों का प्रतिनिधित्व करने वाले 35 मध्य स्तरीय अधिकारियों की भागीदारी के साथ यह ओपन डायनेमिक मैनेजमेंट डेवलपमेंट प्रोग्राम एचआर रिट्रीट उभरती तकनीको को संचालित करता है। मानव संसाधन कार्यक्षेत्र के अधिकारियों को एक साझा मंच प्रदान करने और सीपीएसई द्वारा सामना किए जा रहे मानव संसाधन मुद्दों पर विचार-विमर्श करने का अवसर प्रदान करता है।

प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रतिभगियों को आईआईएम सिरमौर के विशेष व्यक्तित्व डॉ. रिंकी दहिया के विशेषज्ञता से युक्त व्याख्यान से लाभांवित किया गया। इसमें उच्च गुणवत्ता, उद्योग प्रासंगिक सामग्री भी उपलब्ध कराई गई।

हिन्दुस्थान समाचार/कमलेश्वर शरण/रामानुज

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story