चैम्पियन बनकर लौटी विश्वविद्यालय टीम का किया स्वागत



हरिद्वार, 01 अप्रैल (हि.स.)। परिश्रम युवाओं के लिए सबसे बडी पूंजी है। परिश्रम के तप से युवाओं की प्रतिभा एवं सफलता तय होती है। किसी कार्य में जितना अधिक परिश्रम, सफलता उतनी बड़ी होती है। गुरुकुल कांगड़ी समविश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सोमदेव शतान्शु ने विश्वविद्यालय की चैम्पियन बनकर लौटी हॉकी टीम के सम्मान समारोह में बोल रहे थे।

कुलपति प्रो. सोमदेव शतान्शु ने खिलाडियों का स्वागत करते हुए कहा कि गुरुकुल का छात्र अपनी विशेष पहचान से शिक्षा एवं खेल में सफल होकर जीवन में सम्मान का अधिकारी बन जाता है। यह उसकी अनुशासन तथा चारित्रिक उन्नति का द्योतक बनती है। कुलसचिव प्रो. सुनील कुमार ने विजेता टीम को बधाई देते हुए खिलाड़ियों को गुरुकुल के ब्रांड अम्बेसडर कहकर सम्बोधित किया और खिलाड़ियों को बेहतर संसाधन उपलब्ध कराने की बात दोहराई।

डीन, योग एवं शारीरिक शिक्षा प्रो. सुरेन्द्र कुमार ने खिलाड़ियों के पुरुषार्थ की सराहना की। क्रीड़ा परिषद के सचिव डॉ अजय मलिक, डॉ. शिवकुमार चौहान, हॉकी कोच दुष्यन्त सिंह राणा, डॉ. कपिल मिश्रा, सुनील कुमार डॉ. अनुज कुमार, डॉ. प्रणवीर सिंह ने भी टीम को बधाई दी।

गुरुकुल कांगड़ी समविश्वविद्यालय की हॉकी टीम ने आईआईटी रुड़की के प्रतियोगिता संग्राम-2023-2024 में विजेता ट्राफी के साथ परिसर लौटी, तो विश्वविद्यालय के शिक्षकों, शिक्षकेत्तर कर्मचारियों एवं छात्रों ने टीम का भव्य स्वागत किया। टीम का सम्मान समारोह कुलपति कार्यालय के सभागार में किया गया। टीम के गोल कीपर सुमित चौहान को बेस्ट गोलकीपर का सम्मान प्रदान किया वही खिलाड़ियों को गोल्ड मेडल प्रदान किये गये।

कार्यक्रम में प्रो. विवेक गुप्ता, प्रो. एलपी पुरोहित, प्रो. डीएस मलिक, प्रो. प्रभात कुमार, वित्ताधिकारी प्रो. देवेन्द्र कुमार गुप्ता, संयुक्त कुलसचिव देवेन्द्र कुमार, शशिकान्त शर्मा, कुलदीप कुमार,अमित कुमार, नवीन कुमार, सेठपाल आदि ने भी बधाई एवं टीम का स्वागत किया।

हिन्दुस्थान समाचार/ रजनीकांत/रामानुज

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story