स्वामी दयानन्द सरस्वती के सिद्धान्तों पर चलने का किया आह्वान



-दक्षिण अफ्रीका से भारत पहुंचे प्रतिनिधिमंडल का किया स्वागत

हरिद्वार, 13 फ़रवरी (हि.स.)। गुरुकुल कांगड़ी विद्यालय विभाग में महर्षि दयानन्द सरस्वती की 200वी जयंती के उपलक्ष्य में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर महर्षि दयानन्द सरस्वती के सिद्धान्तों पर प्रकाश डालते हुए विभाग के अध्यापकों व ब्रह्मचारियों से उनके द्वारा बताए गए मार्ग पर चलने का आह्वान किया गया। साथ ही कार्यक्रम की अध्यक्षता गुरुकुल के मुख्य अधिष्ठाता डॉक्टर दीनानाथ शर्मा और गुरुकुल कांगड़ी विद्या सभा के उप मंत्री व सार्वदेशिक आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय महासचिव स्वामी आदित्यवेश के सान्निध्य दक्षिण अफ्रीका से भारत पहुंचे प्रतिनिधि मंडल का स्वागत किया।

स्वामी आदित्यवेश ने कहा कि महर्षि दयानन्द के आदर्शों को जन-जन तक पहुंचाने की आवश्यकता है। महर्षि दयानन्द ने सत्य का पालन किया, जिसके लिए साहस की आवश्यकता होती है। उन्हें जीवन में 17 बार जहर भी पीना पड़ा। ऐसा विश्व में उदाहरण मिलना मुश्किल है। उन्होंने राष्ट्रवाद की अवधारणा को परिभाषित किया स्वामी जी से प्रेरणा लेकर हजारों नौजवान आजादी की लड़ाई में कूद पड़े।

डॉक्टर दीनानाथ शर्मा ने कहा कि महर्षि दयानन्द ने तर्क की कसौटी पर हर चीज को परखा और लोगों के सोचने की दिशा ही बदल डाली। उन्होंने कहा की पंडित नरदेव वेदालंकार इसी गुरुकुल में पढ़े ओर उसके बाद दक्षिण अफ्रीका में वैदिक धर्म का प्रचार किया। आज उस परिवार के सदस्य यहां पहुंचे हैं। उनका स्वागत करना हमारे लिए गर्व की बात है।

आर्य प्रतिनिधि सभा दक्षिण अफ्रीका के कोषाध्यक्ष प्रबोध वेदालंकार ने कहा कि महर्षि दयानन्द ने नारी शिक्षा व वेदों के पठन पाठन पर जोर दिया। आर्य समाज के प्रसिद्ध विद्वान पंडित नरदेव वेदालंकार ने दक्षिण अफ्रीका में आर्य समाज के प्रचार प्रसार तथा नारी शिक्षा, हिन्दी शिक्षा एवं संस्कारों निर्माण अभियान को मजबूती प्रदान की। स्वामी शंकरानंद, भवानी दयाल संन्यासी सहित कई महापुरुषों ने दक्षिण अफ्रीका की धरती पर वैदिक सनातन धर्म के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

गुरुकुल कांगड़ी समविश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सोमदेव शतांशु ने कहा कि आज सारा विश्व स्वामी दयानन्द सरस्वती के सिद्धान्तों को अपनाकर विश्व को शांति के पथ पर ले जाने की दिशा में अग्रसर हो रहा है।

इस अवसर पर सार्वदेशिक आर्य युवक परिषद दिल्ली के प्रधान उत्तम आर्य, परिषद की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य धर्मेंद्र पहलवान, अवनीश आर्य, प्रधानाचार्य डॉक्टर बिजेंद्र शास्त्री, डॉक्टर योगेश शास्त्री, जितेन्द्र वर्मा, अशोक आर्य, डा. हुकम चन्द, अश्वनी आर्य, बृजेश वेदालंकार, अमर सिंह, धर्म सिंह, वेदपाल, विजय, राजकमल, गौरव शर्मा, धर्मेन्द्र आर्य आदि भी उपस्थित रहे।

हिन्दुस्थान समाचार/ रजनीकांत/रामानुज

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story