भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने धामी सरकार की तीन साल की उपलब्धियां गिनाईं

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने धामी सरकार की तीन साल की उपलब्धियां गिनाईं
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने धामी सरकार की तीन साल की उपलब्धियां गिनाईं


देहरादून, 04 जुलाई (हि.स.)। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने धामी सरकार के तीन साल पूर्ण होने पर उपलब्धियां गिनाईं। उन्होंने कहा कि इन तीन वर्षों में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने क्रांतिकारी कदम उठाए हैं। देवभूमि का देवतुल्य स्वरूप बना रहे इसके लिए मुख्यमंत्री धामी लगातार प्रयासरत हैं। तीन साल में दिए गए उनके 68 महत्वपूर्ण और विशेष निर्णयों ने पूरे देश में उत्तराखंड की अलग पहचान बना दी है। मुख्यमंत्री के उठाए गए कदम अब अन्य प्रदेशों के लिए भी उदाहरण बन रहे हैं।

प्रदेश अध्यक्ष भट्ट ने गुरुवार को भाजपा प्रदेश मुख्यालय में पत्रकार वार्ता में कहा कि उत्तराखंड में समान नागरिक संहिता लागू हुई, जहां तुष्टिकरण नहीं पुष्टिकरण का कार्य चल रहा है। समान नागरिक संहिता कानून के संदर्भ में अन्य राज्य भी प्रयास कर रहे हैं। भट्ट ने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखंड में जबरन धर्मांतरण के प्रयास को विफल कर दिया है। इसके लिए कठोर कानून बनाया गया है। लव जिहाद और लैंड जिहाद का प्रभाव कम किया गया है। मुख्यमंत्री ने इस संदर्भ में कड़े कदम उठाए हैं और सख्ती से इसे रोकने का प्रयास किया है। कुछ शरारती तत्व जो आंदोलन के नाम पर सरकारी संपत्ति की क्षति पहुंचाते थे उसके लिए ऐसा कठोर कानून बनाया गया है कि अब सार्वजनिक संपत्ति को क्षति पहुंचाने वाले दंगाइयों से संपत्ति की भरपाई की जाएगी।

महेंद्र भट्ट ने कहा कि मातृ शक्ति को 30 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने का प्रकरण हो या परियोजना लागत का 30 प्रतिशत या एक लाख रुपये की सब्सिडी दिया जाना। महिला स्वयं सहायता समूह को पांच लाख का ऋण बिना ब्याज का दिया जाना, लखपति दीदी योजना के तहत अब तक 80 हजार महिलाओं को लखपति बनाया जा चुका है जबकि 2025 तक एक लाख 25 हजार महिलाओं को लखपति दीदी बनाने का लक्ष्य दिया गया है। इसी तरह महिलाओं, युवाओं, किसानों के लिए ऐसी महत्वाकांक्षी योजनाएं बनाई जा रही हैं जो उनके विकास को गति देंगी।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि तीन साल के कार्यकाल में नकल विरोधी कानून, जबरन धर्मांतरण विरोधी कानून, दंगा रोधी कानून और महिला आरक्षण जैसे निर्णयों से प्रदेश की छवि पूरे देश में विशेष रूप से बनी है। इसके लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी साधूवाद के पात्र हैं। अब उत्तराखंड सरकार के नकल विरोधी कानून की तर्ज पर गुजरात, मध्य प्रदेश जैसे कई राज्य नियम बना रहे हैं। जिनके अपनाने से नकल करने और कराने के संदर्भ में कोई सोच भी नहीं पाएगा। जहां जबरन धर्मांतरण कराने पर 10 वर्ष की सजा है वहीं होम स्टे, मोटा अनाज उत्पादन पर विशेष ध्यान दिया जाना, नई खेल नीति जैसे संदर्भों में विशेष कार्य हुआ है। इसी तरह विभिन्न विभागों के रोजगार सृजन के बाद हुई नियुक्तियों को मुख्यमंत्री द्वारा नियुक्ति पत्र दिया जा रहा है जो इस बात का संकेत है कि रोजगार के संदर्भ में मुख्यमंत्री धामी विशेष रूप से प्रयासरत हैं और बेरोजगारों के लिए उनका विशेष ध्यान है। हाल फिलहाल 11 हजार पदों पर भर्ती की विज्ञप्तियां शीघ्र ही होने वाली हैं।

प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने कहा कि उत्तराखंड सरकार लगातार जन मुद्दों पर जागरूक करने के साथ-साथ जनता को लाभान्वित करने की योजना को कार्यान्वित कर रही है। साथ भ्रष्टाचार पर करारा प्रहार कर रही है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार पर अंकुश के तहत 63 लोगों को दंडित किया जा चुका है। आयुष्मान भारत में 55 लाख लोगों के आयुष्मान कार्ड बनाए गए हैं जबकि 19.11 लाख मरीजों का नि:शुल्क उपचार किया गया है जिस पर एक करोड़ 72 लाख से अधिक का खर्च आया है। प्रदेश में 207 प्रकार की पैथोलॉजी जांचे नि:शुल्क कर दी गई हैं। विकास की योजनाओं के तहत केदारनाथ रोपवे एवं कर्णप्रयाग रेल लाइन महत्वाकांक्षी परियोजनाओं में शामिल है। केदारनाथ रोपवे के तहत 16 किलोमीटर की दूरी जो पांच-छह घंटों में पूरी होती थी अब मात्र 28 मिनट में पूरी होगी। इसी तरह मुख्यमंत्री ने आदि कैलास को राष्ट्रीय फलक पर लाने का उपक्रम किया है। पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आदि कैलास के दर्शन कर उसका महत्व बताया था जबकि मुख्यमंत्री ने आदि कैलास में योग दिवस पर योग कर पर्यटकों के लिए उसकी विशिष्टता बताई है।

प्रदेश अध्यक्ष ने इनवेंस्टर समिट, होम स्टे योजना, नई खेल नीति, मोटे अनाज जैसे विषयों पर चर्चा की तथा कहा कि उत्तराखंड में हवाई चप्पल पहनने वाला भी हवाई यात्रा कर सकेगा। इसके लिए विशेष प्रबंधन किया गया है। हवाई अड्डों का सुदृढ़ीकरण और स्थानीयकरण किया जा रहा है जिसका लाभ आम आदमी को भी मिलेगा। उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा में लगभग 52 दिनों में 34 लाख से अधिक यात्रियों ने दर्शन किए हैं जबकि पूरा यात्रा सीजन अभी बाकी है। 22 जुलाई से कांवड़ यात्रा प्रारंभ होगी जिसका प्रबंधन काफी महत्वपूर्ण है।

पत्रकार वार्ता में प्रदेश अध्यक्ष के साथ महामंत्री आदित्य कोठारी, विधायक विनोद चमोली, मीडिया प्रभारी मनवीर चौहान, राजेंद्र नेगी, कमलेश उनियाल, कमलेश रमन, समेत तमाम लोग उपस्थित थे।

हिन्दुस्थान समाचार/ साकेती/सत्यवान/वीरेन्द्र

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story