उक्रांद बालिकाओं के यौन शोषण पर नाराज, जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन

उक्रांद बालिकाओं के यौन शोषण पर नाराज, जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन
उक्रांद बालिकाओं के यौन शोषण पर नाराज, जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन


उक्रांद बालिकाओं के यौन शोषण पर नाराज, जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन


देहरादून, 15 मई (हि.स.)। उत्तराखंड क्रांति दल युवा प्रकोष्ठ की ओर से राज्य की कानून व्यवस्था एवं नाबालिग बालिकाओं की सुरक्षा की मांग करते हुए आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई करने का ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा है। बुधवार को भेजे गए इस ज्ञापन में सात बिन्दुओं पर चर्चा की गई है।

संगठन का कहना है कि राज्य में अपराध के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, साथ ही राज्य में नाबालिग बच्चियों के साथ दुष्कर्म के मामले सामने आ रहे हैं, यह चिंतनीय विषय है। कुछ दिन पूर्व चमोली की रहने वाली दो नाबालिग सगी बहनों को सहारनपुर के दो विशेष धर्म के युवकों ने बहला फुसलाकर देहरादून के होटल में ले जाकर दुष्कर्म किया।

पौड़ी से भी एक नाबालिग लड़की के साथ इसी प्रकार का मामला सामने आया है। ऐसे ही पिथौरागढ़ जिले से भी नाबालिग लड़की के यौन शोषण की घटना सामने आई है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की घटनाओं में बढ़ोत्तरी का कारण आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई ना करते हुए उनके साथ नरमी बरतना भी है, जिस प्रकार से नाबालिग बच्चों के साथ हो रहे दुराचार के लिए पॉक्सो एक्ट में सजा का प्रावधान है, लेकिन राज्यभर में सैकड़ों ऐसे केस के बाद भी उन पर कार्रवाई नहीं की जाती। यह दुर्भाग्यपूर्ण है।

जिन सात बिन्दुओं की इस ज्ञापन में चर्चा की गई है। उनमें यौन शोषण पर तत्काल कार्रवाई होना, समस्त अवैध रिज़ॉर्ट, होटल, होम स्टे जो संदिग्ध हो, को बंद किया जाना। बाहरी राज्यों से उत्तराखंड में रह रहे सभी का पूर्ण रुप से सत्यापन हो तथा संदिग्ध पाए जाने पर उनके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग शामिल है। इसी कड़ी में अवैध रूप से संचालित स्पा सेंटर के खिलाफ अनैतिक व्यापार अधिनियम के अंतर्गत अभियोग दर्ज किया जाना तथा बाहरी राज्यों से उत्तराखंड के निजी संस्थानों में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं का सत्यापन किया जाए। अवैध सामान पाए जाने पर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई किया जाना भी शामिल है।

उक्रांद की मांग है कि राज्य के समस्त होटल और रेस्टोरेंट में शराब एवं अन्य अवैध गतिविधियों को रोकने के लिए होटल मालिक के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाए। बाहरी राज्यों से उत्तराखंड में कई निजी संस्थानों के पास नशे के कारोबार को रोकने के लिए विशेष तौर पर राज्य की सीमा पर ही जांच अभियान चलाया जाए।

इस संदर्भ में युवा प्रकोष्ठ के केंद्रीय अध्यक्ष राजेंद्र सिंह बिष्ट, महानगर अध्यक्ष परवीन चंद रमोला युवा प्रकोष्ठ की केंद्रीय प्रवक्ता नेहा उनियाल, केंद्रीय मीडिया प्रभारी किरन रावत, केंद्रीय महामंत्री बृज मोहन साजवाण ने अपने विचार व्यक्त किए।

ज्ञापन देने वालों में केंद्रीय उपाध्यक्ष सुनील ध्यानी, केंद्रीय महामंत्री मीनाक्षी घिल्डियाल, केंद्रीय उपाध्यक्ष जय प्रकाश उपाध्याय,परवीन चंद रमोला, अशोक नेगी, नेहा उनियाल,ललिता गुसांई, मधु सेमवाल,दीपक रावत, प्रताप कुंवर,बृज मोहन सजवाँण आदि उस्थित थे।

हिन्दुस्थान समाचार/ साकेती/सत्यवान/रामानुज

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story