राम बारात के समय हुई मारपीट को लेकर मुस्लिम समाज ने ज्ञापन देकर दी सफाई

राम बारात के समय हुई मारपीट को लेकर मुस्लिम समाज ने ज्ञापन देकर दी सफाई
राम बारात के समय हुई मारपीट को लेकर मुस्लिम समाज ने ज्ञापन देकर दी सफाई


कोटा, 1 अप्रैल (हि.स.)। कैथून कस्बे में निकल रही राम बारात के समय हुई मारपीट के मामले को लेकर मुस्लिम समाज ने पुलिस महानिरीक्षक को ज्ञापन सौंपा है। लाडपुरा प्रधान नईमुद्दीन गुड्डू व कैथून नगर पालिका अध्यक्ष आइना महक की अगुवाई में मुस्लिम समाज के चुनिंदा लोगों ने आईजी को ज्ञापन देकर असामाजिक तत्वों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। मुस्लिम समाज के लोगों का कहना है कि चुनाव के समय कुछ लोग कस्बे का माहौल खराब करना चाहते है। ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो।

लाडपुरा प्रधान नईमुद्दीन गुड्डू ने कहा कि कैथून में मदीना मस्जिद है। शुक्रवार दोपहर को मस्जिद में नमाज हो रही थी। उसी दौरान मस्जिद के सामने से राम बारात निकल रही थी। शोर शराबा होने पर कुछ लोगों ने मना किया होगा। इसी बात को लेकर धक्का मुक्की व कहासुनी हुई। बाद में थाने पर प्रदर्शन किया। एक युवक की थाने के पास पिटाई कर दी। जिले में धारा 144 लगी हुई है। हमारी मांग है कि शांति बनी रहे। बरसों से लोग साथ रहते आए हैं। सब लोग अपने अपने त्योहार को अपने अपने हिसाब से मनाएं, मिलकर मनाएं। सभी लोगों का उसमें फायदा है। आईजी की ज्ञापन देकर सारी बातों से अवगत करवाया है।

कैथून नगर पालिका अध्यक्ष आइना महक ने कहा कि वो 10 साल से पालिका अध्यक्ष हैं। आज तक ऐसा माहौल नहीं देखा, दोनों समुदाय प्रेम भाव से रहते हैं। शुक्रवार की घटना का कुछ राजनीतिक लोगों ने नेतृत्व किया, और भीड़ को उकसाने की कोशिश की। मजबूरन पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। कुछ लोग कस्बे के माहौल खराब करना चाहते हैं। लोकसभा चुनाव में कुछ लोग राजनीतिक रोटियां सेंकने के लिए लड़ाई-झगड़ा करवाना चाहते हैं। कस्बे के माहौल खराब करना चाहते हैं। हमारी मांग है कि जो लोग शांति भंग कर रहे हैं और कस्बे का माहौल खराब करना चाहते हैं उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए। जिससे कस्बे में शांति बनी रहे और आगे से ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो।

गौरतलब है कि कोटा के कैथून में 29 मार्च को स्थानीय मेले में चल रही रामलीला से जुड़ी राम बारात निकाली जा रही थी, तभी मस्जिद के पास पीछे से आई भीड़ ने हमला बोल दिया। इस भीड़ ने डीजे और सारा सामान तो तोड़ा ही, महिलाओं तक को नहीं छोड़ा। भीड़ के इस हमले में कई हिंदू पुरुष और महिलाएं घायल हो गए। राम बारात में शामिल लोगों का आरोप है कि भीड़ ने बारात पर हमला कर दिया और डीजे बंद करवाकर तार और लैपटॉप तोड़ दिए। इस हमले में कई लोग घायल हो गए। इसके बाद गुस्साए लोग थाने के बाहर इकट्ठा हो गए और भीड़ पर कार्रवाई की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। इस दौरान भारी संख्या में जुटे लोगों ने न्याय मांगा और नारेबाजी की, जिन्हें हटाने के लिए पुलिस ने जमकर लाठियां भांजी।

इस मामले में ग्रामीण एसपी करण शर्मा ने कहा कि राम बारात निकल रही थी। मस्जिद के सामने से राम बारात निकल रही थी। इस दौरान नमाज चल रही थी. डीजे बजाने की बात को लेकर विवाद हुआ था। किसी ने डीजे के वायर निकाल दिए। इसको लेकर दोनों पक्ष में कहासुनी हुई। कैथून कस्बे में होली के अवसर पर 7 दिनों का मेला लगता है। इस मेले में रामलीला का भी आयोजन किया जाता है। इसी रामलीला से जुड़ी राम बारात संकट मोचन हनुमान मंदिर से रवाना हुई, जिसे नहर कृषि मंडी नहर तक पहुंचना था। इस दौरान जब ये बारात मस्जिद के सामने से होकर गुजरी, तब मुस्लिमों ने राम बारात पर हमला कर दिया।

हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/संदीप

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story