दानजी स्मृति मारवाड़ भजनी पुरस्कार : राजस्थान के वाणी गायक कर सकेंगे आवेदन

दानजी स्मृति मारवाड़ भजनी पुरस्कार : राजस्थान के वाणी गायक कर सकेंगे आवेदन
दानजी स्मृति मारवाड़ भजनी पुरस्कार : राजस्थान के वाणी गायक कर सकेंगे आवेदन


बाड़मेर/जयपुर, 13 फरवरी (हि.स.)। ग्रामीण विकास एवं चेतना संस्थान और रूमादेवी फाउंडेशन द्वारा लुप्त हो रही पारंपरिक वाणी गायन के संरक्षण व संवर्धन को लेकर हर वर्ष 29 व 30 मार्च को होने वाले ‘दानजी स्मृति मारवाड़ भजनी पुरस्कार’ के लिए इस वर्ष के आवेदन रविवार 14 फरवरी बसंत पंचमी से प्रारंभ हो गए हैं।

फाउंडेशन की डायरेक्टर व फैशन डिजाइनर रूमा देवी ने बताया कि थार में सदियों से हमारी संस्कृति में वाणी गायन की समृद्ध परंपरा रही है, जो कि छुआछूत, ऊंच-नीच, अमीर-गरीब और धार्मिक भेदभाव को मिटाने का संदेश देती आई थी। वर्तमान में उसका मूल स्वरूप में बदलाव आता जा रहा है। हमारा प्रयास रहेगा कि थार की इस विरासत को संरक्षण दिया जाए और नई पीढ़ी को रुबरू करवाने के साथ सिखा कर आगे बढ़ाया जाए।

उन्होंने बताया कि दानसिंहजी मारवाड़ क्षेत्र के प्रसिद्ध वीणा भजनी कलाकार थे। इन्होंने 15 वर्ष कि उम्र में वीणा पर गाना शुरू किया एवं 85 वर्ष कि आयु तक इस कार्य को करते रहे। दानजी अपने जीवन के आखिरी समय में भी राजस्थान दिवस कार्यक्रम, राजस्थान कबीर यात्रा जैसे आयोजनों से सक्रिय रूप से जुड़े रहे। दानजी ने पारम्परिक वीणा भजन परम्परा के संरक्षण के लिए नए कलाकारों को सिखाने का महत्वपूर्ण कार्य किया। दानजी द्वारा सिखाये गए कलाकार दिल्ली, मुंबई, जयपुर, अजमेर सहित देश के विभिन्न शहरों में विभिन्न मंचों पर अपनी प्रस्तुति दे चुके हैं।

रूमा देवी ने बताया कि दो दिवसीय वाणी उत्सव में इस विरासत को सहेजने वाले वाणी गायकों को मंच व प्रोत्साहन मिलेगा और नई पीढ़ी को इस लोक कला से जोङ़ने का प्रयास किया जाएगा। पिछले वर्ष वाणी उत्सव में 100 मुख्य कलाकरों सहित 500 अन्य कलाकारों ने एक मंच पर आकर हमारी सांस्कृतिक पहचान को नई ऊंचाई प्रदान की थी।

संस्थान सचिव विक्रम सिंह ने बताया कि दानजी स्मृति मारवाड़ भजनी पुरस्कार चार श्रेणियों नवोदित कलाकार (आयु 20 वर्ष तक), युवा कलाकार (आयु 21 से 45 वर्ष), वरिष्ठ कलाकार (आयु 45 वर्ष से ऊपर ) एवं वीणा भजन परंपरा के संरक्षण के लिए विशिष्ट कार्य करने वाले संगठन, संस्थान या व्यक्ति को प्रदान किया जाता है। इसके साथ ही 5 लाख रुपये के वीणा वाद्य यंत्र वाणी गायन परंपरा को संजोये रखने एवं इसके प्रति रुचि रखने वाले कलाकारों को भेंट करके उनकी हौसला अफजाई की जाएगी।

मारवाड़ के भजन सम्राट दानसिंह जी की पंचम पुण्यतिथि पर उनके सम्मान में आयोजित किये जाने वाले ‘‘दानजी स्मृति मारवाड़ भजनी पुरस्कार‘‘ के लिए आवेदन करने के लिए रुमादेवी फाउंडेशन की वेबसाइट पर जाकर गूगल फॉर्म के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन मोबाइल अथवा ई-मित्र के माध्यम से किया जा सकता है। चयनित कलाकारों की घोषणा चयन समिति द्वारा की जाएगी।

हिन्दुस्थान समाचार/ सुनीता कौशल/ईश्वर

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story