विधानसभा का घेराव करने बेरोजगारों संग किरोड़ी का दौसा से जयपुर कूच

विधानसभा का घेराव करने बेरोजगारों संग किरोड़ी का दौसा से जयपुर कूच


विधानसभा का घेराव करने बेरोजगारों संग किरोड़ी का दौसा से जयपुर कूच


जयपुर, 24 जनवरी (हि.स.)। राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा पेपर लीक की जांच सीबीआई से कराने की मांग को लेकर आज बेरोजगारों संग हुंकार भर रहे हैं। सैकड़ों बेरोजगारों के साथ दौसा से कूच कर वे जयपुर पहुंच विधानसभा का घेराव करेंगे। सरकार ने पहले से ही एनएच-12 पर मीणा और उनके समर्थकों को रोकने के लिए 500 से ज्यादा पुलिसकर्मी तैनात कर दिए हैं। बड़ा सवाल यह है कि क्या मीणा इस बार भी हर बार की तरह इंटेलिजेंस को चकमा देकर जयपुर पहुंचेंगे? मीणा का अब तक इतिहास बताता है कि वो चकमा देने में माहिर हैं।

मीणा के अनुसार इस यात्रा में हजारों की संख्या में बेरोजगार प्रदेश भर से शामिल हो रहे हैं। पुलिस कर्मियों की भारी संख्या में तैनाती पर मीणा ने कहा है कि सरकार कितना ही तंत्र लगा ले किरोड़ी लाल रुकने वाला नहीं है। दावा किया है कि पेपर लीक प्रकरणों की सीबीआई जांच के लिए राजस्थान सरकार जब तक तैयार नहीं होगी तब तक उनका बेरोजगार युवाओं के हक में आंदोलन जारी रहेगा। सांसद को लगता है कि पेपर लीक के तार सीएमओ से जुड़े हुए हैं, इसलिए सरकार सीबीआई जांच से पीछे हट रही है।

बेरोजगारों की नाराजगी सरकार पहले से झेल रही है, इस बीच किरोड़ी लाल मीणा के जयपुर कूच ने मुसीबत और बढ़ा दी है। इंटेलिजेंस इनपुट के आधार पर सरकार ने नेशनल हाईवे पर जयपुर से बाहर ही किरोड़ी को रोकने के लिए 500 से ज्यादा पुलिसकर्मियों को तैनात कर दिया है। एनएच- 21 को वनवे किया गया है, ताकि किसी भी तरह से यातायात बाधित न हो। सांसद मीणा ने अंदेशा जताया है कि सरकारी मशीनरी उन्हें जयपुर घाट की गुणी पर ही रोक लेगी लेकिन उन्होंने भी तय कर लिया है कि वो विधानसभा पहुंच कर ही दम लेंगे। मीणा ने कहा कि इससे पहले आमागढ़ में झंडा फहराने को लेकर भी ऐसा हुआ था लेकिन हमने झंडा फहरा दिया था। आज भी तय मानकर चलिए कि शासन - प्रशासन की तमाम तैयारियों के बीच युवाओं की आक्रोश रैली विधानसभा पहुंचेगी।

सांसद ने कहा कि रीट पेपर लीक मामले के बाद जब मैंने आंदोलन किया और सरकार के सामने सबूत रखे तो सरकार ने माना पेपर लीक हुआ है, जिसके चलते बोर्ड अध्यक्ष डीपी जारोली को बर्खास्त किया गया। जारोली तो एकमात्र मोहरा है असली खिलाड़ी तो बड़े नेता और ब्यूरोक्रेट्स हैं। सरकार उन पर कार्रवाई नही कर रही है।सरकार जानती है कि अगर मामले की जांच सीबीआई से कराई गई तो उसकी आंच सीएमओ तक जाएगी इसलिए सरकार इस पूरे मामले पर लीपापोती कर रही है। सांसद किरोड़ी लाल मीणा ने कहा कि जितने भी पेपर लीक हुए हैं उन सभी की जांच सीबीआई को सौंपी जाए। साथ ही राजस्थान में बाहरी युवाओं को नौकरियां देने से बचा जाए। किरोड़ी का आरोप है कि बाहरी राज्यों से आने वाले युवा कई बार फर्जी डिग्रियां लाते है। सरकार विधानसभा में एक बिल लेकर आए और 95 प्रतिशत राज्य की सरकारी नौकरियों में प्रदेश के युवाओं का कोटा तय करे, ठीक वैसे ही जैसे हरियाणा सरकार ने किया है, ताकि प्रदेश के युवाओं का जो हक है वो उन्हें मिले।

हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/ ईश्वर

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story