लोकसभा चुनाव- अलवर में कांग्रेस और भाजपा प्रत्याशियों ने झोंकी ताकत

लोकसभा चुनाव- अलवर में कांग्रेस और भाजपा प्रत्याशियों ने झोंकी ताकत
लोकसभा चुनाव- अलवर में कांग्रेस और भाजपा प्रत्याशियों ने झोंकी ताकत


लोकसभा चुनाव- अलवर में कांग्रेस और भाजपा प्रत्याशियों ने झोंकी ताकत


लोकसभा चुनाव- अलवर में कांग्रेस और भाजपा प्रत्याशियों ने झोंकी ताकत


अलवर, 02 अप्रैल(हि.स.)। आगामी 19 अप्रैल को होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और भाजपा प्रत्याशियों ने जहां प्रचार प्रसार में अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। वहीं बसपा के हाथी की अभी चुनावी रेगिस्तान में रफ्तार धीमी है। देश में महंगाई, बेरोजगारी और आर्थिक तंगी से जूझ रहे मतदाता इस बार मोदी मैजिक के इशारे पर ही अपने उंगली का बटन दबाएंगे या इंडिया गठबंधन को सत्ता पर काबिज कर राजनीति की दिशा में परिवर्तन करेंगे यह तो आने वाले 4 जून को स्पष्ट हो पाएगा। देश में हो रहे सबसे बड़े चुनाव के बीच इस बार अलवर लोकसभा सीट भी हॉट बनी हुई है। यहां से भारतीय जनता के बड़े कद के नेता भूपेंद्र यादव मैदान में है तो वही कांग्रेस ने मुंडावर एमएलए युवा ललित यादव पर दाव खेला है।

भारतीय जनता पार्टी के लोकसभा प्रत्याशी भूपेंद्र यादव कांग्रेस प्रत्याशी ललित के क्षेत्र आज जुटे प्रचार में जुटे है तो वही कांग्रेस प्रत्याशी ललित यादव भाजपा के फायर ब्रांड नेता एवं तिजारा विधायक बालक नाथ के क्षेत्र में चुनाव प्रचार प्रसार कर रहे है।

पेशे से चिकित्सक और राजनीति के डॉक्टर कहे जाने वाले डॉ करण सिंह यादव ने कांग्रेस का दामन छोड़कर भले ही भारतीय जनता पार्टी कि सदस्यता ले ली लेकिन अभी उनके डीएनए में कांग्रेस के अंश मौजूद है। भाजपा के अलवर लोकसभा प्रत्याशी भूपेंद्र यादव की मौजूदगी में आयोजित कार्यक्रम में करण सिंह में सभी भाजपा पदाधिकारियों का संबोधन के बाद सभी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आपके यहां है बोला तो भाजपा नेताओं ने उन्हें टोका और चुनावी सरगर्मी के बीच एक बार हंसी के ठहाके कार्यक्रम में लगे।

भाजपा प्रत्याशी जहां अबकी बार 400 पार मोदी के नारे को लेकर जनता के बीच पहुंच रहे हैं वही कांग्रेस प्रत्याशी ललित यादव आपणो अलवर - आपणो ललित को ढाल बनाकर मतदाताओं को रिझाने में जुटे हुए हैं। यादव बाहुल्य वाली अलवर लोकसभा सीट पर भारतीय जनता पार्टी एवं कांग्रेस दोनों ही प्रमुख दलों ने यादव उम्मीदवार मैदान में उतार तो दिए है लेकिन यादव कंडीडेट के रोमांचक मुकाबले के बीच राठ का मतदाता असमंजस की स्थिति आ गया है। एक तरफ स्थानीय युवा तो दूसरी तरफ बाहरी और बड़े कद का नेता मैदान में है। अब यादव समाज के नेता एवं मतदाता दोनों ही कन्फ्यूजन की स्थिति में है।

हिन्दुस्थान समाचार/ मनीष बावलिया /ईश्वर

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story