इमर्जेंसी मेडिसिन यूनिट और जन औषधि केंद्र तत्काल प्रारंभ करें: उप मुख्यमंत्री शुक्ल

इमर्जेंसी मेडिसिन यूनिट और जन औषधि केंद्र तत्काल प्रारंभ करें: उप मुख्यमंत्री शुक्ल
इमर्जेंसी मेडिसिन यूनिट और जन औषधि केंद्र तत्काल प्रारंभ करें: उप मुख्यमंत्री शुक्ल


- श्याम शाह चिकित्सा महाविद्यालय रीवा की सामान्य परिषद की बैठक संपन्न

भोपाल, 10 फरवरी (हि.स.)। उप मुख्यमंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने निर्देश दिये हैं कि संजय गांधी अस्पताल रीवा में प्रधानमंत्री जन औषधि केन्द्र और इमर्जेंसी मेडिसिन यूनिट तत्काल प्रारंभ करें। उन्होंने सुपर स्पेशलिटी अस्पताल और संजय गांधी अस्पताल में आवश्यक अधोसंरचना निर्माण के कार्यों को अविलंब प्रारंभ करने के निर्देश दिये।

उप मुख्यमंत्री शुक्ल शनिवार को रीवा के श्याम शाह चिकित्सा महाविद्यालय की सामान्य परिषद की बैठक को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर उन्होंने कहा कि 41 करोड़ की लागत से नये ओपीडी भवन तथा डॉक्टर्स क्वार्टर्स का निर्माण किया जाएगा। साथ ही 55 आउटसोर्स कर्मचारियों की भी भर्ती होगी।

सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में पैरा मेडिकल के नियमित 36 पद स्वीकृत

उप मुख्यमंत्री शुक्ल ने कहा कि सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में पैरा मेडिकल के नियमित 36 पदों की स्वीकृति प्राप्त हो गई है। इसकी भर्ती प्रक्रिया शीघ्र ही शुरू होगी। उन्होंने कहा कि एमडी एनस्थीसिया के 6 माह के प्रशिक्षण के लिए दो चिकित्सकों को भेजा जाएगा ताकि कार्डियक एनस्थीसिया में वह मदद कर सके। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में डीएम व एमसीएच के पाठ्यक्रम प्रारंभ होंगे जिससे चिकित्सक सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में ही विभिन्न विभागों में अपनी सेवाएं दे सकें।

प्रधानमंत्री जन-औषधि और मध्यप्रदेश जन-औषधि से ही दवाइयों का क्रय हो

उप मुख्यमंत्री शुक्ल ने निर्देश दिए कि प्रधानमंत्री जन औषधि केन्द्र व मध्यप्रदेश जन औषधि से ही दवाइयों का क्रय हो जिससे वह उचित दर में उपलब्ध हो। औषधियों की आपूर्ति मध्यप्रदेश हेल्थ कार्पोरेशन से की जाये। उन्होंने चिकित्सकों को समय पर इन्सेंटिव उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। उप मुख्यमंत्री ने नर्सिंग कॉलेज भवन के कार्य को शीघ्र प्रारंभ करने के लिए निर्देशित किया।

25 वर्षों की आवश्यकतानुसार मास्टर प्लान बनाएं

उप मुख्यमंत्री शुक्ल ने कहा कि चिकित्सालय में स्वास्थ्य सुविधाओं व अन्य अधोसंरचना विकास की आगामी 25 वर्षों की आवश्यकतानुसार मास्टर प्लान बनाकर प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि चिकित्सा के क्षेत्र में रीवा में सभी कार्य प्राथमिकता से होंगे और रीवा मेडिकल हब बनेगा। सभी चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी जिससे मरीजों को इलाज के लिए बाहर जाने की जरूरत नहीं होगी।

उन्होंने सुपर स्पेशलिटी अस्पताल के कार्डियालॉजी विभाग में डीएचयू यूनिट प्रांरभ करने, विभिन्न आवश्यक संसाधनों एवं उपकरणों की पूर्ति हेतु प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। उन्होंने मानसिक रोग विभाग का उन्नयन सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के तौर पर किए जाने का प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए।

प्रत्येक फ्लोर में हेल्प डेस्क का निर्णय

सामान्य परिषद की बैठक में संजय गांधी अस्पताल में दो बड़ी व दो छोटी लिफ्ट स्थापना के साथ ही सिंगल ब्लड सेपरेशन मशीन लगाने का अनुमोदन किया गया। प्रत्येक फ्लोर में हेल्पडेस्क तथा अस्पताल के भर्ती काउंटर बढ़ाने का निर्णय लिया गया। गत कार्यकारिणी समिति की बैठक के प्रस्तावों व अंकेक्षण प्रतिवेदन पर आय-व्यय का अनुमोदन किया गया।

बैठक में चिकित्सा शिक्षा आयुक्त तरुण पिथोड़े, रीवा संभागायुक्त गोपालचन्द्र डॉड, चिकित्सा शिक्षा संचालक डॉ अरुण श्रीवास्तव, रीवा कलेक्टर प्रतिभा पाल, मेडिकल कालेज के डीन डॉ मनोज इंदुलकर उपस्थित थे।

हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story