सतनाः 11 से 18 जून तक चलेगा बाल भिक्षावृत्ति उन्मूलन अभियान

सतनाः 11 से 18 जून तक चलेगा बाल भिक्षावृत्ति उन्मूलन अभियान
सतनाः 11 से 18 जून तक चलेगा बाल भिक्षावृत्ति उन्मूलन अभियान


सतनाः 11 से 18 जून तक चलेगा बाल भिक्षावृत्ति उन्मूलन अभियान


सतना, 10 जून (हि.स.)। बाल भिक्षावृत्ति की रोकथाम के लिए राज्य शासन के निर्देशानुसार सतना जिले में कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट अनुराग वर्मा के निर्देशन में 11 से 18 जून तक सड़क पर रहने वाले बच्चों के पुनर्वास नीति के तहत रेस्क्यू अभियान चलाया जायेगा। सतना शहर में चिन्हित हॉटस्पॉट क्षेत्र में कार्यवाही के लिए दल भी गठित किए गए हैं। यह जानकारी जिला कार्यक्रम अधिकारी सौरभ सिंह ने सोमवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित तत्संबंधी बैठक दी। इस मौके पर डीपीसी विष्णु त्रिपाठी, प्रभारी सहायक श्रम आयुक्त हेमंत डेनियल, पीआरओ राजेश सिंह, सीडीपीओ अरुणेश तिवारी, पुनीत शर्मा सहित टास्क फोर्स के सदस्य एवं बाल संरक्षण सुधार से संबंधित एनजीओ भी उपस्थित रहे।

जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि 18 वर्ष से कम आयु के बच्चे भिक्षावृत्ति में संलग्न होकर ट्रैफिक सिग्नलों के पास दुर्घटना का शिकार होते हैं तथा नशे आदि दुर्व्यवसनों में शामिल होकर समाज की मुख्य धारा से कट जाते हैं। बाल भिक्षावृत्ति रोकथाम के लिए भिक्षावृत्ति में लिप्त परिवारों के समग्र पुनर्वास के लिए राज्य शासन द्वारा सुदृढ़ीकरण के लिए विभिन्न योजनाओं से लाभान्वित करने शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ने एवं उनके समग्र पुनर्वास की नीति 2022 क्रियान्वित की गई है। सभी संभाग मुख्यालयों पर 20 मई से 9 जून तक इस संबंध में जागरूकता अभियान भी चलाया गया है। किशोर न्याय बालकों की देखरेख और संरक्षण अधिनियम 2015 की धारा 76 में भीख मांगने में बालकों के नियोजन पर 5 वर्ष के कारावास और एक लाख रुपये के जुर्माने के दंड के प्रावधान किए गए हैं।

कलेक्टर अनुराग वर्मा ने 11 जून से 18 जून तक की अवधि में शहर के हॉटस्पॉट क्षेत्र में रेस्क्यू अभियान चलाने दो दलों का गठन भी किया है। इसमें दल क्रमांक एक सेमरिया चौक से माहेश्वरी मिष्ठान भरहुत नगर तिराहा एवं व्यंकटेश मंदिर क्षेत्र के लिए परियोजना अधिकारी पुनीत शर्मा को दल प्रभारी बनाया गया है। दल में श्रम निरीक्षक नरेश पटेल, उप निरीक्षक एसजेपीयू मनोज पांडेय, नगर निगम के राजस्व अधिकारी युसूफ खान, पर्यवेक्षक रत्ना पांडेय, रूबी ओझा, एनजीओ ग्राम सुधार के प्रतिनिधि तथा तीन आंगनवाड़ी कार्यकर्ता को शामिल किया गया है। दूसरे दल में सिविल लाइन चौराहा क्षेत्र और साईं मंदिर धवारी क्षेत्र में सीडीपीओ अरुणेश तिवारी दल प्रभारी होंगे। इस दल में श्रम निरीक्षक अनुराग, नगर निगम से अजय परमार, एसजेपीयू से धर्मेंद्र त्रिपाठी, पर्यवेक्षक अमित सिंह, शिवि शर्मा, अर्चना सिंह, दुर्गा कश्यप, अनूपा यादव, कैलाश सत्यार्थी फाऊंडेशन एनजीओ से रणभान लोधी को शामिल किया गया है।

कलेक्टर के आदेश अनुसार यह दल 11 से 18 जून तक सतत अभियान संचालित कर रेस्क्यू के दौरान पाए गए बालकों को बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत करेंगे। स्वास्थ्य परीक्षण, परामर्श के बाद व्यक्तिगत चाइल्ड केयर प्लान तैयार कर उनके परिवारों को परामर्श देंगे तथा विभागों से समन्वय कर पात्रतानुसार शासकीय योजनाओं का लाभ भी दिलाएंगे। जिला कार्यक्रम अधिकारी सौरभ सिंह ने बताया कि 26 जून को बालकों के अधिकार और उनकी समस्याओं के संबंध में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग की एक टीम जिले के रामपुर बघेलान और मझगवां जनपद मुख्यालय पर कैंप करेगी।

सतनाः 23 से 25 जून तक संचालित होगा पल्स पोलियो अभियान

जिले में 23 से 25 जून तक पल्स पोलियो अभियान चलाया जायेगा। अभियान के तहत जिले में पांच वर्ष की उम्र तक के बच्चों को दो बूंद पोलियो की दवा पिलाई जायेगी। अभियान के पहले दिन 23 जून को बूथ पर दवा पिलाई जायेगी। पहले दिन पल्स पोलियो की दवाई से वंचित रहने वाले बच्चों को अगले दिन 24 एवं 25 जून को घर-घर जाकर स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा दवा पिलाई जायेगी।

यह जानकारी सोमवार को कलेक्टर अनुराग वर्मा की अध्यक्षता में आयोजित पल्स पोलियो अभियान की जिला टास्क फोर्स की बैठक में दी गई। इस मौके पर सीईओ जिला पंचायत संजना जैन, अपर कलेक्टर स्वप्निल वानखेड़े, आयुक्त नगर निगम शेर सिंह मीना, सीएमएचओ डॉ एलके तिवारी, सिविल सर्जन डॉ मनोज शुक्ला, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ सुचित्रा अग्रवाल, जिला कार्यक्रम अधिकारी सौरभ सिंह, जनसंपर्क अधिकारी राजेश सिंह तथा समस्त बीएमओ, डीपीओ उपस्थित रहे।

बैठक में बताया गया कि पल्स पोलियो अभियान के दौरान मीजेल्स रुबेला के लक्षणों वाले बच्चों को भी चिन्हित किया जायेगा। कलेक्टर ने अंतर्विभागीय समन्वय के लिये जिला कार्यक्रम अधिकारी सौरभ सिंह को निर्देशित किया है कि पल्स पोलियो अभियान में सभी आंगनवाड़ी कार्यकर्तायें, सहायिकायें भी टीकाकरण दलों का आवश्यक सहयोग करेंगी। जिला टीकाकरण अधिकारी ने बताया कि अभियान के संचालन के लिये शहरी क्षेत्रों में 536 और ग्रामीण क्षेत्रों में 2086 टीकाकरण बूथ बनायें गये हैं।

इसी प्रकार ट्रांजिट बूथों की संख्या शहरी क्षेत्र में 40 और ग्रामीण क्षेत्रों में 34 है। अभियान के दौरान शहरी क्षेत्र में 18 और ग्रामीण क्षेत्रों में 28 मोबाइल टीम टीकाकरण का कार्य करेंगगी। पल्स पोलियो अभियान के तहत जिले 3 लाख 56 हजार 237 बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाने का लक्ष्य रखा गया है। अभियान को सफल बनाने के लिये 5658 कर्मचारियों एवं 282 सुपरवाइजरों की ड्यूटी लगाई गई हैं।

हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश/मयंक

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story