इंदौर संभाग के हर ज़िले में एक गौशाला को आदर्श बनाए पशुपालन विभागः कमिश्नर

इंदौर संभाग के हर ज़िले में एक गौशाला को आदर्श बनाए पशुपालन विभागः कमिश्नर
इंदौर संभाग के हर ज़िले में एक गौशाला को आदर्श बनाए पशुपालन विभागः कमिश्नर


इंदौर, 16 मई (हि.स.)। संभागायुक्त दीपक सिंह ने पशुपालन विभाग को टारगेट दिया है कि वे प्रत्येक ज़िले में एक गौशाला को आदर्श रूप में स्थापित करें। संभागायुक्त सिंह गुरुवार को संभाग के सभी ज़िलों में पशुपालन विभाग के कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने पशुओं के कृत्रिम गर्भाधान में प्रजनन दर कुछ ज़िलों में कम पाए जाने पर इसमें सुधार के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक उप संचालक अपने अधीनस्थ अमले से तथ्य प्राप्त करें और प्रजनन दर को राज्य के औसत के बराबर लेकर आएं।

बैठक में बताया गया कि इंदौर संभाग के विभिन्न ज़िलों में पशु चिकित्सा की 69 चलित इकाई कार्य कर रही हैं। गत वित्तीय वर्ष में बयालीस हज़ार पशुओं को इसका लाभ दिया गया है। पशुपालक टोल फ्री नंबर 1962 में कॉल करके इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं।

संभागायुक्त ने पशुपालकों के लिए किसान क्रेडिट कार्ड बनाए जाने के काम में तेज़ी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इसका लाभ अधिक से अधिक पशुपालकों को मिले। बताया गया है कि गत वित्त वर्ष में 24 हजार 652 पशु पालकों को किसान क्रेडिट कार्ड बनाकर दिए गए हैं।

बैठक में नेशनल लाइव स्टॉक मिशन के तहत बकरी पालन, कुक्कुट पालन के प्रकरणों की भी समीक्षा की गई। संभागायुक्त दीपक सिंह ने कहा कि सुंदरेल में दीपक पाटीदार और बड़वानी ज़िले में जामली की गौशालाओं के कार्यों को विभाग रोल मॉडल बनाए। उन्होंने शासकीय अनुदान प्राप्त गौशालाओं के लिए भी विभाग की योजना के तहत चारा उत्पादन के लिए ज़मीन चिन्हित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री गौ सेवा योजना के तहत निर्मित गौशालाओं के संचालन का ज़िम्मा स्वसहायता समूहों को दिया जा रहा है। ऐसे में पशुपालन विभाग स्वसहायता समूह को अच्छी तरह से प्रशिक्षित करें और गौशाला को आर्थिक रूप से सक्षम बनाने में मददगार बनें।

संभागायुक्त दीपक सिंह ने कहा कि झाबुआ/आलीराजपुर जैसे अन्य ज़िलों में बकरी पालन छोटे एवं सीमांत परिवारों के लिए एक बड़ा सहारा है। बकरी को ग़रीब की गाय भी कहा जाता है। ऐसे में दूरदराज़ के गांवों में बकरी पालन की योजना को विस्तार दें। एक आम आदमी की आर्थिक स्थिति सुधारने में इस योजना को माध्यम बनाएँ।

बैठक में बताया गया कि खंडवा में दुग्ध उत्पादन पिछले कुछ वर्षों में बढ़ा है और यहाँ अच्छी गुणवत्ता का दूध प्राप्त हो रहा है। बुरहानपुर ज़िले के अधिकारियों द्वारा बताया गया कि उनके ज़िले में शत प्रतिशत पशुओं का टीकाकरण कर दिया गया है। संभागायुक्त ने इंदौर दुग्ध संघ से कहा कि वे चीज़ प्रोडक्ट बनाने के लिए प्रयास करें। आजकल दूध का यह उत्पाद डिमांड में है।

हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश/नेहा

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story