छतरपुर कलेक्टर के निर्देश, जर्जर भवनों को बारिश से पूर्व डिस्मेंटल करने के साथ जहां जरूरी है वहां करें मरम्मत

छतरपुर कलेक्टर के निर्देश, जर्जर भवनों को बारिश से पूर्व डिस्मेंटल करने के साथ जहां जरूरी है वहां करें मरम्मत
छतरपुर कलेक्टर के निर्देश, जर्जर भवनों को बारिश से पूर्व डिस्मेंटल करने के साथ जहां जरूरी है वहां करें मरम्मत


छतरपुर, 10 जून (हि.स.)। छतरपुर,कलेक्टर संदीप जी.आर. की अध्यक्षता में सोमवार को टी.एल. प्रकरणों की समीक्षा बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में जल गंगा संवर्धन अभियान, पौधरोपण, सीएम हेल्पलाइन, टीएल प्रकरण, बारिश के पूर्व की तैयारियां, आपात स्थिति से निपटने तैयारियां, तालाबों के गहरीकरण, नालियों की सफाई, बिजली व्यवस्था, स्कूल चले हम अभियान, महिला एवं बाल विकास, छात्रवृत्ति, स्वास्थ्य, मत्स्य एवं गौ पालन सहित अन्य विषयों से संबंधित कार्यों की समीक्षा की गई।

कलेक्टर ने बारिश के पूर्व निकायों एवं जनपद स्तर पर कंडम शासकीय बिल्डिंगों को चिन्हित कर डिस्मेंटल करने के निर्देश दिए। साथ ही निजी इमारतों को चिन्हित कर संबंधित को आवश्यक कार्यवाही के संबंध में जानकारी अंकित कराने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने नालियों को व्यवस्थित साफ सफाई के निर्देश दिए। स्वास्थ्य विभाग को मलेरिया से बचाव की तैयारी करने के निर्देश दिए। वहीं, मेडिसन की पर्याप्त उपलब्धता रखने के निर्देश दिए। एसडीएम को सभी रेन बसेरों को तैयार रखने के निर्देश दिए। । उन्होनें जिला होम कमाण्डेंट को निर्देश देते हुए कहा कि आपात स्थिति से निपटने के लिए समस्त तैयारियां करने के लिए निर्देश दिए। साथ ही एसडीएम एवं तहसीलदार बचाव किट अपनी गाड़ी में भी रखें।

इसके साथ ही कलेक्टर ने सीएमएचओ को दो टूक शब्दों में कहा कि डॉक्टर्स, वार्ड ब्वाय एवं नर्सेस यूनिफॉर्म में अस्पताल में आएं। कलेक्टर संदीप जी.आर. ने प्राथमिकता से जल गंगा संवर्धन अभियान के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए एसडीएम, सीएमओ, सीईओ जनपद पंचायत एवं जन अभियान परिषद को विशेष रूप से निर्देशित किया। उन्होंने कहा अधिकारी सभी जिलेवासियों के समग्र सहयोग से अधिक संख्या में जल स्त्रोतों पर स्वच्छता अभियान चलाएं और जल स्त्रोतों में गंदे पानी को जाने से रोकें। साथ ही तालाबों के सीमांकन उपरांत मुनारे लगाएं और नए तालाबों का निर्माण चंदेल कालीन तर्ज पर करें।

उन्होंने कहा छोटे पौधों को न रोपें, बड़े आकार के पौधों को लगाएं और देरी रोड छतरपुर एवं ग्राम खौंप के फू्रट फॉरेस्ट की तर्ज पर अन्य फलोद्यान को विकसित करें। इसमें सब्जियों का भी उत्पादन करें। इसके संचालन और देखरेख के लिए स्वसहायता समूहों की महिलाओं को हैण्डओवर करें। कलेक्टर ने कहा फ्रूट फॉरेस्टो को ग्रामीण पर्यटन के रूप में विकसित करने के लिए एक मॉड्यूल बनाएं। ताकि आमलोग भी घूमने के लिए पहुंच सके।

हिन्दुस्थान समाचार/सौरभ/मयंक

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story