सरकार के साथ जब समाज मिलता है तब देश खड़ा होता है : शिवराज



- सतना गौरव दिवस में शामिल हुए मुख्यमंत्री चौहान, जिले की विभूतियों को किया सम्मानित

- 400 करोड़ रुपये से अधिक के विकास कार्यों का शिलान्यास और लोकार्पण

भोपाल, 25 जनवरी (हि.स.)। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सरकार के साथ जब समाज मिलता है, तब देश खड़ा होता है। कोई भी गाँव, क्षेत्र, शहर जनता और जनार्दन के सहयोग से ही बनता है। प्रदेश के हर गाँव, हर नगर का गौरव दिवस इस उद्देश्य से मनाया जा रहा है कि वहाँ की जनता अपने क्षेत्र के गौरव के विषय में जाने और उसके विकास में पूरा सहयोग करे।

मुख्यमंत्री चौहान बुधवार को सतना गौरव दिवस समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने सतना में हुए इस समारोह में जिले की विभूतियों को सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने 400 करोड़ रुपये से अधिक के विकास कार्यों का शिलान्यास और लोकार्पण भी किया। मुख्यमंत्री ने विभिन्न योजनाओं के हितग्राहियों को हितलाभ और मुख्यमंत्री आवासीय भू-अधिकार योजना में हितग्राहियों को धारणाधिकार पट्टों का वितरण किया। उन्होंने नागरिकों को पेड़ लगाने और उनके संरक्षण का संकल्प भी दिलाया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने अपने ग्राम जैत से इसकी शुरूआत की। जब गाँव वालों ने मुझे मांग-पत्र सौंपा, तब मैंने फावड़ा उठाया और उनके साथ मिल कर नदी घाट की सफाई करने निकल पड़ा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान की अवधारणा भी जन-सहयोग पर आधारित है। आज प्रदेश का इंदौर नगर हर नागरिक के सहयोग से ही स्वच्छता में नम्बर एक है। हम सभी अपने नागरिक कर्त्तव्यों का पालन करें और अपने गाँव-नगर को उत्कृष्ट बनाए।

चित्रकूट में राम की कथाएँ चित्रित करते हुए भव्य लोक बनेगा

उन्होंने कहा कि विंध्य क्षेत्र पवित्र धाम है। यहाँ भगवान श्री राम ने 11 साल 11 महीने और 11 दिन बिताए थे। मैंने सबसे पहले आज यहाँ आकर माँ शारदा के दर्शन किये हैं। चित्रकूट में भगवान राम की कथाओं को चित्रित करते हुए भव्य लोक का निर्माण किया जायेगा। साथ ही मैहर के माँ शारदा देवी मंदिर में कॉरिडोर का निर्माण भी किया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हाल ही में इंदौर में हुई ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में 15 लाख करोड़ रुपये से अधिक के निवेश प्रस्ताव आये, जिनमें विंध्य क्षेत्र के लिये 2 लाख 88 हजार करोड़ रुपये के विकास प्रस्ताव शामिल हैं। विंध्य और सतना के विकास में कोई कमी नहीं छोड़ी जायेगी। मेडिकल कॉलेज को सर्व-सुविधायुक्त बनाया जायेगा और नये महाविद्यालय की स्थापना का कार्य किया जायेगा। सतना तेजी से आगे बढ़ रहा है। एक वर्ष में यह शहर इंदौर को टक्कर देगा।

उन्होंने कहा कि सतना अद्भुत शहर है। सतना की गौरवशाली ऐतिहासिक विरासत है और यहाँ पवित्र चित्रकूट धाम, मैहर और गैवीधाम हैं। यहाँ का खान-पान विशिष्ट, विशेषकर स्थानीय भजिए, समोसा, मंगोड़ी, लस्सी, मोतीचूर के लड्डू, आलूबड़े अत्यंत स्वादिष्ट होते हैं। आज मैं यहाँ जिले की प्रतिभाओं और समाज-सेवियों का सम्मान करने आया हूँ। यहाँ के व्यापारी, व्यवसाई, उद्यमी, किसान सभी सम्मान के पात्र हैं। आज यहाँ व्यापारियों ने पांच लाख दीये जलाये हैं। मन आनंद से भर गया है। भगवान राम जब अयोध्या लौटे थे, तो घर-घर दीये जले थे। आज यहाँ वे बच्चे भी आये हुए हैं, जिन्होंने कोविड में अपने माता-पिता खो दिये। उन्होंने बच्चों से कहा कि तुम अकेले नहीं हो, पूरी सरकार तुम्हारे साथ खड़ी है। मुख्यमंत्री कोविड बाल कल्याण योजना में इन बच्चों को प्रतिमाह 5 हजार रुपये सहायता दी जाती है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गौरव दिवस उमंग, उत्साह और उपलब्धियों का दिवस है। आज यहाँ की विभूतियों को सम्मानित करते हुए मुझे गौरव हो रहा है। सतना की बेटी सुश्री कृपा मिश्रा ने योग का अद्भुत प्रदर्शन किया है। यहाँ के सामाजिक संगठनों और संस्थाओं ने नगर के विकास में योगदान का संकल्प लेकर सराहनीय पहल की है।

सासंद गणेश सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान ने सतना को विकास की कई सौगातें दी हैं। उनके प्रयासों से यहाँ स्मार्ट सिटी योजना, चित्रकूट में कॉरिडोर निर्माण, माँ शारदा मंदिर में कॉरिडोर निर्माण, मेडिकल कॉलेज, सतना शहर में एलिवेटेड रोड, जिले में पांच रेल्वे ओव्हर ब्रिज, दौरी-सागर बाँध, बमीठी-सतना फोर-लेन और हवाई अड्डा विकास के कार्य हुए हैं।

इन विभूतियों को किया गया सम्मानित

मुख्यमंत्री ने योग में नेशनल चैम्पियन कृपा मिश्रा, पर्वतारोही रत्नेश पाण्डे, कराटे खिलाड़ी अंबुज सिंह, दिव्यांग क्रिकेटर बृजेश द्विवेदी, कराटे चैम्पियन लखन लाल गुप्ता, स्केटर विशेषता सिंह, समाज-सेवी सोनिया, 84 लाख राम नाम लिखने वाले राकेश साहू, सुधीर जैन, क्रांति मिश्रा, पांडुलिपि संग्रहकर्ता राजेश अग्रवाल, स्केटर वैभव अग्रवाल और कोरियोग्राफर शिवांशु सोनी को सम्मानित किया। उन्होंने सामाजिक संस्था भारत विकास परिषद और नेत्रदान कराने वाली संस्था अमर ज्योति संस्थान को भी सम्मानित किया।

समरसता भोज में हुए शामिल

मुख्यमंत्री सतना गौरव दिवस पर बीटीआई ग्राउण्ड में समरसता भोज में शामिल हुए और बघेली व्यंजनों का स्वाद लिया। उन्होंने रिकमच, कढ़ी, ज्वार की कचौरी तथा अन्य देशी व्यंजनों की सराहना की। मुख्यमंत्री ने बच्चों के साथ जमीन पर बैठ कर आनंदपूर्वक भोजन किया। समरसता भोज में लगभग 5 हजार व्यक्ति शामिल हुए।

हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story