मेडिकल कॉलेजों में प्रशासकों की नियुक्ति के विरोध में चिकित्सकों ने की हड़ताल

मेडिकल कॉलेजों में प्रशासकों की नियुक्ति के विरोध में चिकित्सकों ने की हड़ताल


- हमीदिया में टले 20 ऑपरेशन, कैबिनेट बैठक रद्द होने के बाद डॉक्टरों ने वापस ली हड़ताल

भोपाल, 22 नवंबर (हि.स.)। मध्य प्रदेश के सरकारी मेडिकल कॉलेजों में प्रशासनिक अधिकारियों को प्रशासक नियुक्त करने के विरोध में भोपाल के गांधी मेडिकल कॉलेज समेत प्रदेश के सभी 13 सरकारी मेडिकल कॉलेज में मंगलवार सुबह से ही डॉक्टरों ने काम बंद हड़ताल शुरू कर दी। इससे मेडिकल कॉलेजों से संबंधित अस्पतालों में उपचार कराने पहुंचे मरीजों को भआरी परेशानी का सामना करना पड़ा। हड़ताल के चलते भोपाल से सबसे बड़े सरकारी अस्पताल हमीदिया में 20 आपरेशन टाल दिए गए। हालांकि, दोपहर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में होने वाली कैबिनेट बैठक रद्द होने के बाद डॉक्टरों ने अपनी हड़ताल भी खत्म कर दी।

मप्र चिकित्सा शिक्षक संघ के अध्यक्ष डॉ. राकेश मालवीय ने बताया कि मंगलवार को होने वाली कैबिनेट की बैठक में चिकित्सा महाविद्यालय में प्रशासकीय अधिकारियों की नियुक्ति करने का प्रस्ताव लाया जाने वाला था। इसको लेकर रविवार को प्रदेश के सभी 13 मेडिकल कॉलेजो के मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ ऑनलाइन मीटिंग रखी गई। इसमें सभी पदाधिकारियों ने यह निर्णय लिया कि इस गलत प्रक्रिया का मजबूती से विरोध होना चाहिए। इसके बाद सोमवार को डॉक्टर्स ने काली पट्टी बांधकर अपना विरोध जताया था। वहीं, मंगलवार को चिकित्सकों ने काम बंद हड़ताल शुरू कर दी। भोपाल के हमीदिया अस्पताल में मंगलवार को इलाज कराने आए मरीजों को वापस लौटना पड़ा। इमरजेंसी में आए मरीजों को इलाज के लिए निजी अस्पतालों का रुख करना पड़ा।

डॉक्टर्स की हड़ताल के चलते हमीदिया अस्पताल प्रबंधन ने 20 मरीजों के ऑपरेशन अगले 8 घंटे के लिए टालने पड़े। ऐसी ही स्थिति इंदौर के एमजीएम मेडिकल कॉलेज, जबलपुर के नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कॉलेज, ग्वालियर के गजराराजा मेडिकल कॉलेज और प्रदेश के दूसरे सरकारी मेडिकल कॉलेजों से जुड़े अस्पतालों में रही। हालांकि, दोपहर बाद हड़ताल कर रहे चिकित्सकों को कैबिनेट बैठक के रद्द होने की जानकारी मिली। इसके बाद उन्होंने अपनी हड़ताल वापस ले ली।

गांधी मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. अरविंद रॉय ने बताया कि संस्थान से जुड़े हमीदिया, सुल्तानिया और टीबी हॉस्पिटल में मेडिकल टीचर्स हड़ताल पर रहे। इन डॉक्टर्स की कमी को पूरी करने स्वास्थ्य और गैस राहत विभाग के अस्पतालों में कार्यरत 40 से ज्यादा डॉक्टर्स की कंसलटेंट ओपीडी में ड्यूटी लगाई थी, ताकि मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में आए सभी मरीजों को इलाज मुहैया कराया जा सके।

हिन्दुस्थान समाचार/मुकेश

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story