सागर: बीएमसी के डॉक्टर रहे हड़ताल पर, भटकते रहे परिजन

सागर: बीएमसी के डॉक्टर रहे हड़ताल पर, भटकते रहे परिजन


शाम को वापस हुई हड़ताल, बीएमसी प्रबंधन ने की थी वैकल्पिक व्यवस्थाएं

सागर, 22 नवंबर (हि.स.)। मेडिकल कॉलेजों में प्रशासनिक अधिकारियों की नियुक्ति की कवायद के विरोध में मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर और टीचर्स ने मंगलवार को काम बंद हड़ताल कर दी। इसका असर मेडिकल कॉलेज की चिकित्सा व्यवस्था पर भी देखने को मिला। बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में प्रतिदिन ओपीडी में डेढ़ हजार लोग इलाज के लिए आते हैं। डॉक्टरों की हड़ताल के कारण मरीजों को बगैर इलाज के ही वापस लौटना पड़ा। हालांकि मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने वैकल्पिक व्यवस्था के लिए जूनियर डॉक्टर और इंटर्नशिप कर रहे छात्रों को तैनात किया फिर भी नियमित डॉक्टर ना बैठने के कारण कई मरीज बिना इलाज के ही मेडिकल कॉलेज से लौट गए।

मेडीकल टीचर एसोसिएशन के सदस्य डॉक्टर मंगलवार की सुबह ड्यूटी पर न जाकर सीधे बीएमसी परिसर स्थित मंदिर के पास विरोध स्वरूप बैठे रहे। डॉक्टर कुर्सी पर न मिलने के कारण संभाग भर से आए मरीज यहां-वहां भटकते देखे गए। मामले में बीएमसी डीन डॉक्टर आरएस वर्मा ने बताया कि टीचर्स एसोसिएशन द्वारा एक दिन पूर्व हड़ताल की सूचना दी गई थी, जिस कारण बीएमसी में वैकल्पिक व्यवस्था के तौर पर जूनियर डॉक्टरों और इंटर्नशिप कर रहे छात्रों को ड्यूटी पर लगाया था। एसोसिएशन ने गंभीर मामलों में इलाज करने का आश्वासन दिया था। पूरे दिन इलाज की गतिविधियां सामान्य रहीं। कही कोई स्थिती नहीं बिगड़ी। मेडीकल छात्रों की पढ़ाई जरूर प्रभावित हुई है।

शाम को वापस हुई हड़ताल

मेडीकल टीचर्स एसोसिएशन ने बताया कि मुख्यमंत्री एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री का संदेश प्राप्त हुआ है। उन्होंने जनता एवं चिकित्सा संस्थाओं से जुड़े इस संवेदनशील मुद्दे पर प्रदेश के समस्त चिकित्सकों का साथ दिया और इस मुद्दे को खारिज करने का निर्णय लिया। चिकित्सा सस्थानो में डिप्टी कलेक्टर एसडीएम की नियुक्ति के लिए प्रस्तावित कैबिनेट मीटिंग को शासन द्वारा टाल दिया गया है, तत्पश्चात 13 मेडीकल कॉलेज में एमटीए द्वारा इसके विरोध में हो रहा आंदोलन भी स्थगित कर दिया गया।

हिन्दुस्थान समाचार/ विष्णु सोनी

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story