घाटी के ऊपरी इलाकों में सीजनल स्कूलों में बुनियादी सुविधाओं की कमी

WhatsApp Channel Join Now

जम्मू, 9 जुलाई (हि.स.)। गुज्जर और बकरवाल का सीजनल माइग्रेशान मई के महीने में कश्मीर घाटी के कुछ हिस्सों में शुरू होता है, क्योंकि वे अपने माल मवेषियों के साथ ऊपरी हिमालय की ओर चले जाते हैं। उनके साथ ही सीजनल शािक्षक घने जंगलों और ऊंची चोटियों के चुनौतीपूर्ण इलाकों में बच्चों को शिक्षा प्रदान करने के लिए एक कठिन यात्रा पर निकलते हैं।

मीडिया से बात करते हुए छात्रों ने कहा कि सरकार ने शिक्षकों के लिए सुविधाएं प्रदान की हैं, लेकिन यह उनके लिए पर्याप्त नहीं है। भारी बारिश के समय टेंट बह जाते हैं। छात्रों ने सरकार से उन्हें सुविधाएं प्रदान करने की मांग की। उन्होनें कहा कि हमें उम्मीद है कि सरकार हमारे बारे में भी सोचेगी और हमें बोर्ड, वाटरप्रूफ टेंट जैसी बुनियादी सुविधाएं प्रदान करेगी ताकि हम बिना किसी परेशानी के अपनी शिक्षा जारी रख सकें।

हिन्दुस्थान समाचार / Ashwani Gupta / बलवान सिंह

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story