गाय तस्करी में शामिल लोगों के खिलाफ पीएसए लगाने की मांग की

जम्मू, 11 जून (हि.स.)। अखिल भारतीय गौशाला रिसर्च फाउंडेशन, एबीजीआरएफ, जम्मू-कश्मीर ने गौ माता के समर्पित सेवक अमरजीत सिंह की नृशंस हत्या की कड़ी निंदा की है, जिन्हें कल रात कठुआ में पशु तस्करों ने बेरहमी से मार डाला था।

यहां जारी एक बयान में एबीजीआरएफ, जम्मू-कश्मीर यूटी के प्रभारी एडवोकेट पीएस चंदेल ने कहा कि कठुआ जिले में पशु तस्करी को विफल करने के प्रयासों के लिए अमरजीत सिंह की बेरहमी से हत्या कर दी गई, जो इन अपराधियों के दुस्साहस और निडरता को उजागर करता है। उन्होंने बताया कि एक जिले से दूसरे जिले में गाय की तस्करी पर प्रतिबंध के बावजूद, गोवंश की तस्करी अभी भी बेरोकटोक जारी है, तस्कर बेखौफ होकर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, अगर कोई अपनी आवाज़ उठाता है और गाय की तस्करी को रोकने का प्रयास करता है, तो उन्हें अमरजीत सिंह की तरह चुप करा दिया जाता है और मार दिया जाता है।

उन्होंने कहा कि गौ सेवक की हत्या बर्दाश्त नहीं की जाएगी और इसके गंभीर परिणाम होंगे। अमरजीत सिंह की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी। उन्होंने पुलिस विभाग से अमरजीत सिंह के हत्यारों की शीघ्र पहचान करने और उन्हें न्याय के दायरे में लाने का आग्रह किया। उन्होंने गाय तस्करी में शामिल लोगों के खिलाफ सार्वजनिक सुरक्षा अधिनियम, पीएसए लगाने की भी मांग की, इस बात पर जोर दिया कि इन घृणित गतिविधियों को रोकने के लिए ऐसे कड़े उपाय आवश्यक हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/राहुल/बलवान

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story