शिक्षा के आधारभूत ढांचे की मजबूती पर दिया जा रहा विशेष ध्यान : कृषि मंत्री

शिक्षा के आधारभूत ढांचे की मजबूती पर दिया जा रहा विशेष ध्यान : कृषि मंत्री
शिक्षा के आधारभूत ढांचे की मजबूती पर दिया जा रहा विशेष ध्यान : कृषि मंत्री


धर्मशाला, 12 फरवरी (हि.स.)। कृषि व पशुपालन मंत्री प्रो. चंद्र कुमार सोमवार को ज्वाली विधानसभा क्षेत्र के तहत राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला, त्रिलोकपुर के वार्षिक पुरस्कार वितरण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए।

कृषि मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार बच्चों को गुणवत्तापूर्ण व संस्कारयुक्त शिक्षा प्रदान करने सहित शिक्षा के आधारभूत ढांचे की मजबूती पर विशेष बल दे रही है।

उन्होंने कहा कि हमें बच्चों पर पढ़ाई के लिए अनावश्यक दबाव नहीं डालना चाहिए, बल्कि हमें अपने बच्चों की योग्यता और रुचि को ध्यान में रखते हुए उन्हें जीवन में आगे बढ़ने के अवसर प्रदान करने चाहिए।

उन्होंने शिक्षकों का आह्वान किया कि वे पढ़ाई में कमजोर बच्चों को अगली पंक्ति तक पहुंचाने के लिए विशेष प्रयास करें। उन्होंने शिक्षकों से ऐसे बच्चों के लिए अतिरिक्त समय देकर प्रतिस्पर्धा के लिए तैयार करने का आग्रह किया।

उन्होंने बच्चों में मोबाइल फोन के अत्याधिक उपयोग पर चिंता व्यक्त की और माता-पिता से अपने बच्चों के साथ अधिक समय व्यतीत करने व स्कूल की प्रतिदिन की रिपोर्ट लेने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि देवभूमि में नशे का बढ़ता प्रचलन चिंता का विषय है। उन्होंने अभिभावकों से बच्चों की दैनिक गतिविधिओं पर नजर रखने का भी आग्रह किया। चंद्र कुमार ने कहा कि वर्तमान सरकार संवेदनशील सरकार है, जो जनता की भावनाओं को बेहतर ढंग से समझती है। उन्होंने बताया कि कांग्रेस पार्टी के लिए लोकहित सर्वोपरि हैं और लोगों की तरक्की व खुशहाली के लिए पार्टी ने कभी कोई समझौता नहीं किया। उन्होंने बताया कि इस स्कूल को भी हाई स्कूल और वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल का दर्जा कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में ही मिला है।

उन्होंने कोटला क्षेत्र में विकास कार्यों पर चर्चा करते हुए कहा कि इस क्षेत्र में सड़कों,पुलों,पेयजल व अन्य हुए सभी विकास कार्यों का श्रेय कांग्रेस पार्टी की सरकारों को जाता है। उन्होंने बताया कि आपदा के दौरान इस क्षेत्र में सरकारी व निजी सम्पति को काफी नुकसान पहुंचा है। प्रदेश सरकार ने अपने राहत मैन्युअल में संशोधन कर मुआवजे की राशि को सात लाख रुपए तक किया है तथा सभी प्रभावित परिवारों को राहत प्रदान की है। इसके अतिरिक्त क्षेत्र की क्षतिग्रस्त पेयजल तथा सिंचाई परियोजनाओं को पुनः पूरी तरह क्रियाशील बनाने के लिए लगभग 10 करोड़ रुपए की अतिरिक्त राशि की व्यवस्था की है। उन्होंने प्रशासन के अधिकारियों को आपदा से प्रभावित परिवारों के पुनर्वास एवम राहत राशि के शेष लंबित मामलों के शीघ्र निपटारे के भी निर्देश दिए।

कृषि मंत्री ने स्कूल में अतिरिक्त भवन के निर्माण के लिए 50 लाख रुपए की राशि उपलब्ध करवाने का आश्वासन दिया। इसके अतिरिक्त स्कूल की पुरानी बिल्डिंग की मरम्मत के लिए तीन लाख रुपए देने की घोषणा की। जबकि स्कूल की चारदीवारी के लिए एक लाख रुपए की राशि देने की घोषणा की। उन्होंने स्कूल में विभिन्न श्रेणियों के रिक्त पड़े पदों को शीघ्र भरने का भरोसा दिया।

कृषि मंत्री ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले बच्चों को अपनी ऐच्छिक निधि से 21 हजार रुपये देने की घोषणा की। उन्होंने स्कूल प्रबंधन की अन्य मांगों को भी पूरा करने का आश्वासन दिया।

कृषि मंत्री ने इस मौके पर स्कूल प्रांगण में नेपाली गुलाब का पौधा भी रोपित किया।

40 पूर्व छात्रों को किया सम्मानित

इस मौके पर कृषि मंत्री ने स्कूल से शिक्षा ग्रहण कर चुके 40 पूर्व छात्रों जिन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में कार्य करते हुए स्कूल और क्षेत्र का नाम चमकाया है को भी सम्मानित किया।

इस अवसर पर कृषि मंत्री ने विद्यालय के मेधावी विद्यार्थियों को पुरस्कार भी प्रदान किए।

इससे पहले, स्कूल के प्रिंसिपल बलजीत सिंह ने मुख्यातिथि का स्वागत किया और स्कूल की विभिन्न उपलब्धियों का ब्यौरा प्रस्तुत किया।

कृषि मंत्री ने सुनी जनसमस्याएं

कृषि मंत्री ने इस मौके पर जनसमस्याएं भी सुनीं तथा संबंधित अधिकारियों को समस्याओं के शीघ्र समाधान के निर्देश दिए।

हिन्दुस्थान समाचार/सतेंद्र/सुनील

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story