ऑल इंडिया गर्ल्स ट्रैकिंग एक्सपीडिशन : पांचवें दिन कैडेट्स ने दलाई लामा मन्दिर सहित अन्य स्थलों का किया दौरा

ऑल इंडिया गर्ल्स ट्रैकिंग एक्सपीडिशन : पांचवें दिन कैडेट्स ने दलाई लामा मन्दिर सहित अन्य स्थलों का किया दौरा
ऑल इंडिया गर्ल्स ट्रैकिंग एक्सपीडिशन : पांचवें दिन कैडेट्स ने दलाई लामा मन्दिर सहित अन्य स्थलों का किया दौरा


ऑल इंडिया गर्ल्स ट्रैकिंग एक्सपीडिशन : पांचवें दिन कैडेट्स ने दलाई लामा मन्दिर सहित अन्य स्थलों का किया दौरा


















धर्मशाला, 10 जून (हि.स.)। ऑल इंडिया गर्ल्स ट्रैकिंग एक्सपीडिशन के पांचवें दिनट्रैकिंग करते हुए मैक्लोडगंज पंहुचे। सोमवार को कैडेट्स ने मैकलोडगंज में तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा मंदिर सहित विभिन्न ऐतिहासिक और धार्मिक स्थलों का दौरा किया। कैडेट्स को उनके गंतव्य स्थानों पर रवाना करने से पहले, कमांडिंग ऑफिसर कर्नल संजय शांडिल ने ट्रैकिंग की बुनियादी जानकारी प्रदान की।

कैडेट्स को सबसे पहले दलाई लामा मॉनेस्ट्री ले जाया गया जहां पर उन्हें बौद्ध धर्म और उसकी परंपराओं से परिचित कराया गया। कैडेट्स ने स्थानीय भिक्षुओं से उनके दैनिक दिनचर्या के बारे में जानकारी प्राप्त की। इतिहास के बारे में बताया गया कि यह मठ 1959 में तिब्बती आध्यात्मिक नेता परमपावन 14वें दलाई लामा के तिब्बत से निर्वासन के बाद स्थापित किया गया था। यह मठ निर्वासित तिब्बती समुदाय का आध्यात्मिक और राजनीतिक केंद्र है। कैडेट्स ने मठ की सुंदर और जटिल कलाकृतियों को देखा, जो तिब्बती बौद्ध विरासत को दर्शाती हैं। इसके अलावा, उन्होंने हवा में लहराते प्रेयर फ्लैग भी देखे।

दलाई लामा मॉनेस्ट्री के बाद, कैडेट्स को सेंट जॉन चर्च ले जाया गया। कैडेट्स ने चर्च के शांत और सुरम्य वातावरण का अनुभव किया।

तत्पश्चात, सीनियर विंग के कैडेट्स को भागसूनाग मन्दिर ले जाया गया। कैडेट्स को बताया गया कि यह मंदिर लगभग 5000 वर्ष पूर्व राजा भागसू द्वारा नाग देवता से क्षमा मांगने के बाद बनवाया गया था। कैडेट्स ने इस लोकप्रिय मंदिर के इतिहास और मान्यताओं के बारे में जाना। उन्होंने मंदिर के चारों ओर स्थित दो पवित्र तालाबों को भी देखा, जिनके बारे में मान्यता है कि उनमें चमत्कारी शक्तियां हैं।

इस एक्सपीडिशन के माध्यम से कैडेट्स को न केवल ट्रैकिंग के बुनियादी ज्ञान का अनुभव हुआ, बल्कि उन्होंने बौद्ध धर्म और तिब्बती संस्कृति के साथ-साथ स्थानीय इतिहास और धार्मिक मान्यताओं के बारे में भी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त की। इस यात्रा ने उनके ज्ञान और समझ को व्यापक किया और उन्हें एक अद्वितीय सांस्कृतिक अनुभव प्रदान किया।

हिन्दुस्थान समाचार/सतेंद्र/सुनील

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story