नई मोदी सरकार का पहला फ़ैसला किसानों के हित में: जयराम ठाकुर

नई मोदी सरकार का पहला फ़ैसला किसानों के हित में: जयराम ठाकुर
नई मोदी सरकार का पहला फ़ैसला किसानों के हित में: जयराम ठाकुर


बीस हज़ार करोड़ किसानों के खाते में ट्रांसफ़र पर जयराम ने प्रधानमंत्री का जताया आभार

शिमला, 10 जून (हि.स.)। राज्य विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर ने सोमवार को कहा कि नरेन्द्र मोदी की सरकार देश के किसानों, युवाओं, ग़रीबों और महिलाओं के कल्याण के लिए समर्पित है। प्रधानमंत्री ने अपने तीसरे कार्यकाल के पहले फ़ैसले में किसानों को सम्मान निधि की 17वीं किश्त जारी कर दी। यह हमारी सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

पूर्व मुख्यमंत्री ठाकुर ने पीएम किसान सम्मान निधि की 17वीं किस्त के रूप में लगभग रुपये 20 हजार करोड़ से अधिक की राशि से 9 करोड़ से अधिक किसानों के देने के निर्णय की सराहना कर प्रधानमंत्री का आभार जताया। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि मोदी की नई सरकार इसी तरह से देश के लोगों के विकास के काम करती रहेगी। आने वाले समय में और बड़े फ़ैसले तथा जनहितकारी योजनाएं ज़मीन पर उतरती दिखाई देंगी।

जयराम ठाकुर ने राज्य सरकार पर हमला करते हुए कहा कि प्रदेश में क़ानून-व्यवस्था पूरी तरह से बर्बाद हो गई है। ऐसी-ऐसी घटनाएं देखने को मिल रही है, जिसकी हम कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। एक दिन में तीन -तीन लोगों की बेरहमी से हत्या हो रही है। सरकार, पुलिस और प्रशासन हाथ पर हाथ धरे बैठा है। उन्होंने कहा कि सुक्खू सरकार ने हिमाचल के लोगों कि जीवन को भगवान के भरोसे छोड़ दिया है। जब से कांग्रेस सत्ता में आई है तभी से अपराधियों के हौसलें बुलंद हैं। एक अपराध पर कार्रवाई न करने से ही अपराधियों के हौसले बुलंद हो रहे हैं। सरकार जिस तरह से आँख मूँदकर बैठी है, ऐसे काम नहीं चलेगा। सरकार को सरकार की तरह काम करना होगा। आम आदमी की ज़िंदगी के साथ खिलवाड़ हो यह भारतीय जनता पार्टी सहन नहीं करेगी। उन्होंने से मुख्यमंत्री से हाल में हुई आपराधिक घटनाओं पर सख़्त से सख़्त कदम उठाने की माँग की।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि चुनाव ख़त्म हो गए, आचार संहिता हट गई लेकिन सरकार अभी अपने नींद से नहीं जागी। विकास के काम जस के तस पड़े हैं। बस अख़बारों के माध्यम से सरकार के क़र्ज़ पर क़र्ज़ लेने का पता चलता है। इस महीने फिर से सरकार ने 1200 करोड़ का क़र्ज़ लिया है। इसी वित्तीय वर्ष में सरकार 2900 करोड़ का क़र्ज़ ले चुकी है। दिसंबर तक क़र्ज़ की लिमिट 6200 करोड़ रुपये हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या क़र्ज़ लेकर ही सरकार चलेगी। कहा कि सत्ता में आने के पहले कांग्रेस के नेताओं ने कहा जाता था कि हम आय नए साधन बनाएंगे, लेकिन सत्ता में आने के बाद से रिकॉर्ड स्तर पर सुक्खू सरकार क़र्ज़ ले रही हैं। कांग्रेस सरकार ने न तो अपने चुनावी वादे पूरे किए हैं और न ही विकास के कार्य कर रही है। ऐसे में यह क़र्ज़ किस काम के लिए लिया जा रहा है, सरकार को इसका जवाब देना चाहिए।

हिन्दुस्थान समाचार/ सुनील/सुनील

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story