हिसार: सीमाओं पर बेरिकेटिंग से चार हजार ट्रक माल के भरे सड़कों पर खड़े हैं: बजरंग गर्ग

हिसार: सीमाओं पर बेरिकेटिंग से चार हजार ट्रक माल के भरे सड़कों पर खड़े हैं: बजरंग गर्ग
हिसार: सीमाओं पर बेरिकेटिंग से चार हजार ट्रक माल के भरे सड़कों पर खड़े हैं: बजरंग गर्ग


बेरीकेटिंग लगाने से करोड़ों-अरबों रुपए का व्यापार हो रहा प्रभावित

हिसार, 13 फरवरी (हि.स.)। अखिल भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय मुख्य महासचिव व हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने मंगलवार को जारी बयान में कहा कि सरकार द्वारा हरियाणा, पंजाब, दिल्ली व यूपी आदि राज्यों की सीमाओं को सील करने से व्यापारी व उद्योगपतियों को करोड़ों-अरबों रुपए का नुकसान हो रहा है। यहां तक कि चार हजार से ज्यादा ट्रक माल के भरे हुए सड़कों पर खड़े हैं।

बजरंग गर्ग ने मंगलवार को कहा कि सरकार द्वारा इंटरनेट सेवाएं बंद करने से ऑनलाइन ट्रेडिंग, ऑनलाइन बिलिंग, ऑनलाइन बैंकिंग ना हो पाने के कारण व्यापार व अन्य कार्य पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया है। उन्होंने कहा कि चारों तरफ से बेरिकेटिंग करके जनता को कैद करना उचित नहीं है। सरकार को अपने वादे के अनुसार किसानों की समस्याओं का हल करना चाहिए क्योंकि जब किसान आंदोलन करते हैं तब जाकर सरकार जागती है। सरकार को आंदोलन से पहले ही समस्या के समाधान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार ने किसानों को एमएसपी देने का वादा करते हुए कमेटी का गठन किया था मगर डेढ़ साल बाद भी उस कमेटी का आज तक अता-पता तक नहीं है। अगर सरकार व कमेटी कोई फैसला कर देती तो आज दोबारा किसानों को आंदोलन करने की नौबत नहीं आती।

बजरंग गर्ग ने कहा कि किसानों की समस्या का हल करने की जिम्मेदारी सरकार की है। सरकार अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए किसानों की समस्या का हल करके किसान आंदोलन को खत्म करवाएं। सरकार किसानों की समस्याओं का हल करने की बजाय सरकार किसानों को आंदोलनकारी, आतंकवादी, खालिस्तानी व आंदोलनजीवी बोलकर उनको उकसा रही है। किसान देश का अन्नदाता है जो 140 करोड़ जनता का पेट भरता है और किसान का बेटा देश की सीमाओं पर देश की रक्षा कर रहा है।

हिन्दुस्थान समाचार/राजेश्वर/संजीव

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story