गुरुग्राम: तनाव भरे जीवन के बीच अंधेर नगरी नाटक देख लोट-पोट हुए दर्शक

गुरुग्राम: तनाव भरे जीवन के बीच अंधेर नगरी नाटक देख लोट-पोट हुए दर्शक
गुरुग्राम: तनाव भरे जीवन के बीच अंधेर नगरी नाटक देख लोट-पोट हुए दर्शक


-गुरुग्राम में हुआ नाटक अंधेर नगरी का 12वां मंचन

गुरुग्राम, 4 अप्रैल (हि.स.)। सप्तक कल्चरल सोसाइटी के प्रसिद्ध हास्य नाटक अंधेर नगरी का स्थानीय रंग परिवर्तन स्टूडियो आचार्यपुरी में 12वां सफल मंचन किया गया। तनाव भरे माहौल, जीवन के बीच इस नाटक के माध्यम से कलाकारों ने दर्शकों को खूब हंसाया।

रंग परिवर्तन स्टूडियो के संचालक राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के स्नातक महेश वशिष्ठ के मुताबिक इस नाटक का आयोजन शहर के सुधिजनों के विशेष आग्रह पर किया गया। हिंदुस्तान में नाटक के पितामह भारतेंदु हरिश्चंद्र द्वारा लगभग 150 साल पहले लिखे गए अंधेर नगरी का निर्देशन और पुनर्लेखन विश्व दीपक त्रिखा ने किया। सह-निर्देशन अविनाश सैनी ने किया। नौटंकी शैली में प्रस्तुत एक घंटे का यह नाटक दर्शकों की भरपूर तालियां बटोरने में कामयाब रहा। राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1979 बैच के स्नातक युवराज शर्मा, वरिष्ठ रंगकर्मी अर्जुन वशिष्ठ और वरिष्ठ रंगकर्मी और फिल्म निर्माता विजय भटोटिया नाट्य संध्या में विशिष्ठ अतिथि के रूप में पधारे।

आयोजक महेश वशिष्ठ ने कलाकारों के सजीव अभिनय की सराहना करते हुए निर्देशक विश्व दीपक त्रिखा के काम को भी सराहा। अंधेर नगरी एक ऐसे राज्य की कहानी है, जिसमें मूर्ख और बुद्धिमान, सभी को बराबर माना जाता है। इसीलिए वहां सभी सामान टके सेर मिलता है। फिर चाहे वह सोना हो या भूसा। वहां का राजा चौपट खुद बेवकूफ है। नाटक में चेले की मुख्य भूमिका निभाते हुए अविनाश सैनी ने दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया।

डॉ. सुरेंद्र शर्मा ने गुरू और मंत्री, ललित खन्ना ने राजा और पान वाले की भूमिका बखूबी निभाई। जगदीप जुगनू ने कारीगर और सब्जी वाले की, उर्वशी विराट ने फूल वाली और फरियादन की तथा चारु ने नटी और नर्तकी की भूमिका अदा की। मिठाई वाला और भिश्ती की भूमिका में शक्ति सरोवर त्रिखा, चने वाला, गडरिया और द्वारपाल की भूमिका में समीर शर्मा, द्वारपाल दो व कसाई के किरदार में मनीष खरे, कल्लू बनिया के रूप में अनिल शर्मा तथा कोतवाल की भूमिका में जुगनू ने दर्शकों के दिलों पर छाप छोड़ी। ज्योति वशिष्ठ ने प्रोडक्शन का कार्य संभाला। संगीत सुभाष नगाड़ा और मेकअप अनिल शर्मा का रहा। लाइट एंड साउंड का संचालन सिद्धार्थ सोसर्ग ने किया।

हिन्दुस्थान समाचार/ईश्वर/संजीव

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story