भारत की लोकतांत्रिक प्रणाली विश्व की सर्वश्रेष्ठ प्रणाली: प्रोफेसर सुरेश गहलावत



सिरसा 25 जनवरी(हि.स.)। भारत की लोकतांत्रिक प्रणाली विश्व की सर्वश्रेष्ठ प्रणाली है। लोकतंत्र के अन्दर मत का प्रयोग जनता को करना होता है और अपने विवेक के हिसाब से मतदाता जनप्रतिनिधि का चुनाव करता है।

ये विचार चौधरी देवी लाल विश्वविद्यालय के शैक्षणिक मामलों के अधिष्ठाता प्रोफेसर सुरेश गहलावत ने विश्वविद्यालय परिसर स्थित लाल बहादुर शास्त्री प्रशासनिक भवन के सामने उपस्थित जनों को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। राष्ट्रीय मतदाता दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित इस कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के कर्मचारियों तथा विद्यार्थियों ने बढ-चढ कर भाग लिया। प्रोफेसर गहलावत ने कहा कि वे अत्यन्त भाग्यशाली हैं कि उन्हे मत डालने का अधिकार प्राप्त है।

उन्होंने कहा कि इस मत के अधिकार के लिए हमारे पूर्वजों ने हजारों साल संघर्ष किया है। उन्होने कहा कि लोकतान्त्रिक प्रणाली में नेता का चयन बेल्ट बॉक्स से होता है। राष्ट्र के प्रत्येक व्यक्ति को मत का प्रयोग करना चाहिए। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के चुनाव नोडल अधिकारी डॉ रविंदर ढिल्लों की उपस्थिति में मत का प्रयोग करने की शपथ भी दिलाई गई जिसके माध्यम से लोकतांत्रिक मर्यादाओं की गरिमा रखते हुए सभी निर्वाचनों में अपने मताधिकार का प्रयोग करने की बात कही गई।

हिन्दुस्थान समाचार/रमेश डावर

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story