हरियाणा: पाले से खराब सरसों की फसल की होगी स्पेशल गिरदावरी, किसानों को मिलेगा मुआवजा



- छोटूराम जयंती पर मुख्यमंत्री का ऐलान

- कुरुक्षेत्र की जाट धर्मशाला के लिए मुख्यमंत्री ने की 51 लाख रुपये देने की घोषणा

- छात्रावास के लिए जगह की भी की जाएगी व्यवस्था

चंडीगढ़, 25 जनवरी (हि.स.)। किसानों के मसीहा दीनबंधु सर छोटूराम के जयंती समारोह में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने घोषणाओं की झड़ी लगा दी। कुरुक्षेत्र की जाट धर्माशाला में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने गन्ने के रेट में 10 रुपये का इजाफा करते हुए 372 रुपये प्रति क्विंटल करने की घोषणा की। इतना ही नहीं, उन्होंने पटवारियों के वेतन को 25 हजार रुपये से बढ़ाकर 32100 रुपये करने का भी ऐलान किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पाले की वजह से सरसों की फसल का काफी नुकसान हुआ है, ऐसे में फसल की गिरदावरी करवाई जाएगी और किसानों को मुआवजा दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने जाट धर्मशाला के लिए 51 लाख रुपये देने की भी बड़ी घोषणा की। उन्होंने कहा कि जाट धर्मशाला द्वारा बनाए जाने वाले छात्रावास के लिए जमीन की व्यवस्था कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड या हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के माध्यम से की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने आमजन से धन्ना भगत के आदर्शों पर चलने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि श्री धन्ना भगत महान विचारक थे। 21 अप्रैल को हर वर्ष धन्ना भगत की जयंती मनाई जाती है। हरियाणा सरकार संत-महापुरुष प्रचार प्रसार योजना चला रही है, जिसके अंतर्गत संत-महापुरुषों की जयंतियां सरकारी तौर पर मनाई जाती हैं। इस बार धन्ना भगत की जयंती भी हरियाणा सरकार द्वारा मनाई जाएगी। इसके लिए स्थान का चयन बातचीत के बाद किया जाएगा।

मनोहर लाल ने कहा कि दीनबंधु सर छोटूराम किसानों के हित की बात करते थे, हरियाणा सरकार भी किसानों के हित की बात करती है। प्रदेश की डेढ़ लाख एकड़ भूमि में जल भराव की समस्या है। इस भूमि को ठीक करने के लिए 1100 करोड़ रुपये का बजट अगले वर्ष तक खर्च किया जाएगा। इस भूमि को कृषि योग्य बनाया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने दीनबंधु सर छोटूराम की जयंती की बधाई देते हुए कहा कि बसंत पंचमी के दिन सर छोटूराम जी की जयंती मनाई जाती है लेकिन इस बार 26 जनवरी व बसंत पंचमी एक ही दिन पड़ रही है, इस वजह से यह कार्यक्रम एक दिन पूर्व आयोजित किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें दीनबंधु छोटूराम के आदर्शों पर काम करना है। चौधरी छोटूराम का उदार जीवन हमारे लिए आदर्श है। उन्होंने अंग्रेजों से टक्कर ली और गरीब व किसान के लिए कानून बनवाए। उन्होंने ही बाजारों, दुकानों व फैक्ट्री में सप्ताह में एक दिन की छुट्टी को लागू करवाया। दीनबंधु छोटूराम ने ही कर्ज में दबे किसानों को चंगुल से बाहर निकाला।

मुख्यमंत्री ने आह्वान किया कि समाज को नशे से बचाने के लिए हर व्यक्ति को इसके खिलाफ खड़ा करना होगा। इसके लिए लोगों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक किया जाए। समाज को इन बुराइयों को खत्म करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभानी चाहिए। उन्होंने कहा कि सिरसा, कैथल, जींद, कुरुक्षेत्र के इलाकों में नशे से जुड़ी समस्या है। सरकार नशे के खिलाफ कार्रवाई कर सकती है, लेकिन लोगों को समझाने और जागरूक करने की जिम्मेदारी समाज को उठानी चाहिए।

हिन्दुस्थान समाचार/संजीव/वीरेन्द्र

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story