अंग्रेजी के माध्यम से महिला-सशक्तीकरण पर वेबिनार आयोजित

अंग्रेजी के माध्यम से महिला-सशक्तीकरण पर वेबिनार आयोजित
अंग्रेजी के माध्यम से महिला-सशक्तीकरण पर वेबिनार आयोजित


अंग्रेजी के माध्यम से महिला-सशक्तीकरण पर वेबिनार आयोजित


नई दिल्ली, 01 अप्रैल (हि.स.)। देश में सामाजिक असमानता दूर करने के मकसद से दूर-दराज के इलाकों में रहने वाली महिलाओं का 'अंग्रेजी के माध्यम से सशक्तीकरण' करने के लिए ऑनलाइन एक वेबिनार आयोजित किया गया। अंग्रेजी भाषा विषय पर आयोजित यह कार्यक्रम देश के जाने-माने अंग्रेजी भाषा प्रशिक्षण संस्था ब्रिटिश लिंग्वा की ओर से किया गया।

ब्रिटिश लिंग्वा के संस्थापक डॉ. बीरबल झा ने 'अंग्रेजी के माध्यम से महिला-सशक्तीकरण' के लिए इस जागरूकता कार्यक्रम का उद्घाटन किया। पटना उच्च न्यायालय की वरिष्ठ वकील मंजू झा ने कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की। उन्होंने कहा कि एक कानूनी पेशेवर के रूप में उनका मानना है कि सभी महिलाओं को 90 के दशक के वाद वैश्वीकरण एवं बहुभाषावाद को ध्यान में रखते हुए जहां अंग्रेजी एक संपर्क भाषा के रूप में काम कर रही है, उन्होंने कहा कि इसके लिए अच्छे कम्युनिकेशन स्किल्स की आवश्यकता है।

अधिवक्ता मंजू झा ने एक उदाहरण देते हुए कहा कि जब पुरुष और महिलाएं खासकर संचार कौशल के मामले में एक ही तरंग दैर्ध्य पर होते हैं, तो जीवन अच्छी तरह से चलता है। उन्होंने कहा कि जैसे कि यदि प्रत्येक रथ के पहिए की चिकनाई और संतुलित ठीक से की गई हो तो वे सुचारू रूप से चलते हैं और अपने गंतव्य स्थान तक पहुंचते पाते हैं।

झा ने कहा कि ब्रिटिश लिंग्वा के संस्थापक डॉ. बीरबल झा की किसी परिचय के मोहताज नहीं है। वे कई कीर्तिमान स्थापित कर चुके हैं। उनकी पहल इंग्लिश फॉर ऑल' महिलाओं को बहुत आगे तक ले जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रत्येक महिला को इस कार्यक्रम में शामिल होना चाहिए। इस कार्यक्रम के लिए डिजाइन किए गए मॉड्यूल का लाभ उठाना चाहिए। इससे निःसंदेह महिलाओं की मौजूदा स्थिति और जीवन स्तर में सुधार होगा।

इस मौके पर प्रसिद्ध लेखक डॉ. बीरबल झा ने कहा कि माता-पिता विशेषकर माताओं का अपने बच्चों पर विशेष प्रभाव पड़ता है। ऐसे में महिलाओं को अंग्रेजी कौशल में प्रशिक्षित करने से न केवल उनके बच्चों और परिवारों को बल्कि, पूरे समाज को लाभ होगा। झा ने कहा कि देशभर से महिला उम्मीदवारों का ब्रिटिश लिंगुआ ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म में शामिल होने के लिए स्वागत है। इस कार्यक्रम में अन्य लोगों के अलावा पटना विश्वविद्यालय से प्रोफेसर अरुणा चौधरी, अधिवक्ता श्वेता कुमारी, सामाजिक कार्यकर्ता पुष्पा प्रकाश, बिहार के बेगुसराय से बेबी कुमारी और पंजाब से पुष्पा प्रजापति शामिल थीं।

हिन्दुस्थान समाचार/प्रजेश शंकर/प्रभात

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story