पीड़िया नक्सली मुठभेड़ की जांच के लिए कांग्रेस ने गठित की आठ सदस्यीय दल

पीड़िया नक्सली मुठभेड़ की जांच के लिए कांग्रेस ने गठित की आठ सदस्यीय दल
पीड़िया नक्सली मुठभेड़ की जांच के लिए कांग्रेस ने गठित की आठ सदस्यीय दल


पीड़िया नक्सली मुठभेड़ की जांच के लिए कांग्रेस ने गठित की आठ सदस्यीय दल


जगदलपुर, 14 मई (हि.स.)। पीडिया के जंगल में 10 मई को लगभग 12 घंटे तक चली नक्सली मुठभेड़ के बाद जवानों ने 12 नक्सलियों को ढेर कर, घटनास्थल से हथियार समेत 12 शव भी बरामद किए गए थे। इस मुठभेड़ के बाद स्थानीय ग्रामीण समाज सेवी बेला भाटिया और नक्सली सभी एक सुर में मुठभेड़ पर प्रश्न चिन्ह खड़े करते हुए पीडिया मुठभेड़ को फर्जी बता रहे हैं। वहीं कांग्रेस ने पीड़िया नक्सली मुठभेड़ की जांच के लिए 8 सदस्यीय जांच दल गठित किया है।

पीड़िया नक्सली मुठभेड़ में मारे गए नक्सलियों के परिजनों ने पुलिस पर फर्जी मुठभेड़ का आरोप लगाते हुए कहा कि तेंदूपत्ता हमारी आजीविका का साधन है। पीडिया के पास इटावर गांव के कुछ लोग जंगल में तेंदूपत्ता तोड़ने गए थे, इसी दौरान उन्हें गोली मार दी गई। इसके बाद कांग्रेस ने पीड़िया नक्सली मुठभेड़ के जांच के लिए 08 सदस्यीय जांच दल गठित किया है। केश्काल के पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष संतराम नेताम को जांच दल का संयोजक बनाया गया है। कांग्रेस के इस जांच दल में 08 सदस्यीय दल में 01 संयोजक के साथ 7 सदस्य शामिल है। जांच समिति के सदस्य पीड़िया का दौरा करेंगे और पीड़ित परिजनों व स्थानीय ग्रामवासियों से मुलाकात के बाद रिपोर्ट तैयार कर प्रदेश कांग्रेस कमेटी को सौंपेगे।

उल्लेखनीय है कि पीड़िया नक्सली मुठभेड़ पर सोमवार को नक्सलियों ने प्रेस रिलीज जारी किया है। जिसमें उन्होंने दो को अपना सदस्य बताया है और 10 लोगों को ग्रामीण बताया है और कार्रवाई की मांग की है। नक्सली ज्ञापन में कहा गया है कि हमारे पीएलजीए के सदस्य कामरेड् पूनेम कल्लू, उईका बुधू बीमार के चलते सीविल सें गांव मे थे। इन निर्दोष आदिवासीयों की निर्मम तरीके से हत्या की है। कुंजाम लक्के, उण्डान छोटू को एरिया कमेटी, पीपीसी सदस्या बताया है जो कि, सफेद झूठ है और वे इतावार गांव के निवासी हैं। तेंदूपत्ता तोड़ाई करने वाले जनता के उपर अंधाधुध फायरिंग कर 06 जन निर्दोष आदिवासी गंभीर घायल अवस्था में तड़प रहें है। सैकड़ों ग्रामीणों को घेराबंदी करके और उन्हें पकड़ कर 55 लोगों को कैंप में रख कर यातनाएं दे रहे हैं। वहीं कुछ लोंगो से मार-पीट कर उन्हें छोड़ दिया गया है।

हिन्दुस्थान समाचार / राकेश पांडे / गेवेन्द्र

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story