धमतरी : 58 वर्षीय लीना बाई यादव ने जीती जिलास्तरीय गेड़ी स्पर्धा

धमतरी : 58 वर्षीय लीना बाई यादव ने जीती जिलास्तरीय गेड़ी स्पर्धा


खुशमिजाजी और व्यस्त रहना है स्वस्थ रहने का राज

धमतरी, 23 नवंबर (हि.स.)। ग्राम बरारी की 58 वर्षीय लीना बाई यादव का जज्बा देखते ही बनता है। उम्र को धता बताते हुए उन्होंने जिलास्तरीय गेड़ी स्पर्धा में भाग लिया और पहला स्थान प्राप्त किया। उनके उत्साह और जज्बे को देखकर सभी ने उनकी काफी प्रशंसा की। लीना बाई यादव ने बताया कि उन्होंने बचपन में गेड़ी चलाया था। इसके बाद इतने सालों में कभी गेड़ी चढ़ने का मौका नहीं मिला।

राज्य शासन द्वारा आयोजित छत्तीसगढ़ी ओलंपिक में ग्रामीण खेल के तहत पारंपरिक खेल को महत्व देना अच्छी बात है। खेल आयोजन के बारे में कुछ लोगों की सलाह पर इस स्पर्धा में शामिल हुई। लोगों के उत्साह वर्धन को देखते हुए स्पर्धा में भाग लिया और इस उपलब्धि को प्राप्त कर पाई। तीन बच्चों की मां और नाती-पोताें की दादी-नानी ने लंबे समय तक स्वस्थ रहने का मंत्र बताया कि हमेशा अपने आप को प्रश्नचित रखना चाहिए। घर के कार्यों को करने के अलावा खेती-किसानी के कार्य प्रतिदिन की दिनचर्या में शामिल है। हमेशा खुश रहना और व्यस्त रहना ही उनके स्वस्थ जीवन का राज है। हर किसी को इन दो बातों पर अवश्य ध्यान रखना चाहिए। बाहरी तनाव नहीं लेना चाहिए।

बुजुर्गों में दिखा खेल का उत्साह

डाॅ. शोभा राम देवांगन के एकलव्य खेल मैदान में उन्होंने गेड़ी दौड़ में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया तो युवा अपने दांतो तले उंगली दबा बैठे, क्योंकि दौड़ की स्पर्धा के लिए उचित स्वास्थ्य की आवश्यकता होती है ऐसे में बुजुर्गों को इस तरह के आयोजन में भाग लेना और बेहतर प्रदर्शन करना दूसरों के लिए प्रेरणा का काम करता है। व्यायाम शिक्षक सुनील सिन्हा व प्रदीप सिन्हा का कहना है कि खेलों को लेकर जो उत्साह बुजुर्गों में दिखा वैसा उत्साह उन्होंने लंबे अरसे बाद देखा है। सभी की सहभागिता देखती बनी। खेल एक-दूसरे को जोड़ने का काम करता है। बुजुर्गों ने खेल के आयोजन में भाग लेकर बता दिया कि वे किसी भी तरीके से युवाओं से कम नहीं है।

हिन्दुस्थान समाचार/ रोशन सिन्हा

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story