एईएस-जेई की रोकथाम के लिए अलर्ट मोड में रहें स्वास्थ्य विभाग:डीएम

एईएस-जेई की रोकथाम के लिए अलर्ट मोड में रहें स्वास्थ्य विभाग:डीएम
एईएस-जेई की रोकथाम के लिए अलर्ट मोड में रहें स्वास्थ्य विभाग:डीएम


एईएस-जेई की रोकथाम के लिए अलर्ट मोड में रहें स्वास्थ्य विभाग:डीएम


पूर्वी चंपारण,03 अप्रैल(हि.स.)। जिला समन्वय समिति की बैठक बुधवार को डीएम की अध्यक्षता में हुई। बैठक में डीएम सौरभ जोरवाल ने उपस्थित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ अन्य विभागों के पदाधिकारियों को

चमकी बुखार की रोकथाम को लेकर कई आवश्यक निर्देश देते कहा कि चमकी को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड में रहे,साथ ही आमजनों के बीच जागरूकता फैलाये। उन्होंने कहा कि जिले में गर्मी के प्रकोप के साथ ही एईएस-जेई के मामले सामने आते है ऐसे में इसकी रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग, आईसीडीएस, जीविका, शिक्षा विभाग आपसी समन्वय के साथ लोगो के बीच जागरूकता फैलाना बेहद आवश्यक है।इसको लेकर गांव गांव में संध्या चौपाल लगाने का भी निर्देश दिया,साथ ही सभी पीएचसी, अनुमंडलीय अस्पताल के प्रभारियों चिकित्सकों के साथ ही दवा, बेड,एम्बुलेंस की सुविधा की चाक चौबंद व्यवस्था करने का निर्देश दिया।

मौके पर सिविल सर्जन डॉ विनोद कुमार,अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ श्रवण कुमार पासवान,डीएस डॉ अवधेश कुमार ने एईएस के इलाज व लक्षण के बारे में विस्तार से जानकारी देते बताया कि मार्च से लेकर जून तक एईएस का खतरा ज्यादा होते है। ऐसे में जिले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों में तैयारियां की जा रही हैं। बताया कि जिले की जीविका दीदियों, आशा फैसिलिटेटरों, नर्सो को एईएस से सम्बंधित प्रशिक्षण कराया जा रहा है। ताकि गांव गांव में उनके द्धारा चमकी बुखार से बचाव की जानकारी दी जा सके।

उन्होने बताया कि चमकी से बच्चों को बचाने के लिऐ बच्चों को रात में सोने से पहले जरूर खाना खिलाए,सुबह उठते ही बच्चों को भी जगाकर देखें , कहीं बेहोशी या चमक तो नहीं,बेहोशी या चमक दिखते ही सरकारी अस्पताल ले जाए, बच्चो को तेज धुप से दुर रखे।अधिक से अधिक पानी, ओआरएस अथवा नींबू-पानी-चीनी का घोल पिलाएं। हल्का व सुपाच्य खाना खिलाएं, बच्चो को जंक-फुड से दूर रखे।खाली पेट लिची या कोई कच्चा फल ना खिलाएं।रात को खाने के बाद थोड़ा मीठा जरूर खिलाऐ।बच्चो को दिन में दो बार स्नान कराएं।घर के आसपास पानी जमा न होने दे।रात को सोते समय मच्छरदानी का इस्तेमाल करे। बैठक में सिविल सर्जन, एसीएमओ,डीएस, वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी,आईसीडीएस डीपीओ, डीसीएम,जिला जन सम्पर्क पदाधिकारी, पिरामल के डीएल,सिफार डीसी,भीडीसीओ, व अन्य विभागों के पदाधिकारी उपस्थित थे।

हिन्दुस्थान समाचार/आनंद प्रकाश/चंदा

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story