13वें राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर मतदाताओं को दिलाई गयी शपथ



13वें राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर मतदाताओं को दिलाई गयी शपथ


13वें राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर मतदाताओं को दिलाई गयी शपथ


सहरसा,25 जनवरी (हि.स.)। 13वां राष्ट्रीय मतदाता दिवस समारोह प्रेक्षागृह सभागार में बुधवार को आयोजित हुई। इस अवसर पर जिला निर्वाचन पदाधिकारी,उप निर्वाचन पदाधिकारी, अपर समाहर्ता, उप समाहर्ता, अनुमंडल पदाधिकारी, जिला शिक्षा पदाधिकारी एवं नए मतदाता ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया गया।

मुक्तेश्वर सिंह मुकेश के संचालन में चले इस कार्यक्रम में दीप प्रज्वलन के बाद राष्ट्रीय गान,अतिथि सम्मान, स्वागत गान एवं उपस्थित लोगों को शपथ दिलाया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डीएम आनंद शर्मा ने कहा कि राष्ट्रीय मतदाता आयोग का गठन 25 जनवरी 1950 को किया गया था।

मतदाताओं के अधिकार के प्रति जागरूक रहने के लिए 2011 से राष्ट्रीय मतदाता दिवस का आयोजन किया जाता है। जिसके माध्यम से नए वोटरों को वोटर लिस्ट में नाम जोड़ने के प्रति प्रेरित किया जाता है। जिलाधिकारी ने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग ने मानवता सूची में नाम दर्ज कराने के लिए बहुत ही सरल प्रक्रिया अपनाई है। जिसके माध्यम से आप घर बैठे मतदाता के रूप में पंजीकृत हो सकते हैं। इसके लिए सरकार के द्वारा नेशनल वोटर पोर्टल, वोटर एप, वोटर हेल्पलाइन एवं टोल फ्री नंबर उपलब्ध कराया गया है।

उन्होंने कहा कि साथ ही मतदान केंद्र के बीएलओ से भी संपर्क कर मतदाता सूची में अपना नाम पंजीकृत करा सकते हैं। उन्होंने कहा कि 18 साल पूरा होने पर मातदाता सूची में आधार नंबर जोड़कर सजग मतदाता बने। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाने के लिए हर वर्ष एक नए थीम का सहारा लिया जाता है। वहीं इस वर्ष काफी का थीम है। बोट जैसा कुछ नहीं वोट जरुर डालेंगे हम। उन्होंने कहा कि युवा वर्ग को पंजीकृत करने हेतु विशेष जागरूक करने की आवश्यकता है।उन्होंने कहा कि जिले में 13 लाख 41 हजार 264 मतदाता है। जिसमें 6 लाख 93 हजार 956 पुरुष एवं 6 लाख 47 हजार 271 महिला मतदाता है।

उन्होंने कहा कि इस बार कुल 10643 नए मतदाता बनाए गए हैं। 2338 मतदाताओं के नाम में संशोधन किया गया है।जबकि 7396 लोगों का नाम सूची से विलोपित किया गया है। उन्होंने कहा कि जो नागरिक वोट नहीं डालता उसे किसी भी प्रजातांत्रिक व्यवस्था पर प्रश्न उठाने का कोई अधिकार नहीं है। संविधान ने जो ताकत दी है उस के माध्यम से अमीर से अमीर एवं गरीब से गरीब दोनों की वोट की कीमत बड़ाबर रखी गई है।

हिन्दुस्थान समाचार/अजय

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story